Type Here to Get Search Results !

ऐसा कहते हैं सब लोगों की जादू भरी पग रज है तुम्हारी (Aisa Kahte Hai Sab Log Ki Jadu Bhari Pag Raj Hai Tumhari Lyrics in Hindi) - Bhaktilok

 

ऐसा कहते हैं सब लोगों की जादू भरी पग रज है तुम्हारी (Aisa Kahte Hai Sab Log Ki Jadu Bhari Pag Raj Hai Tumhari Lyrics in Hindi) - 


आज्ञा पाये निषाद ने केवट लियो बुलाये

पर केवट ने राम को दी यह मांग सुनाए


पहले चरण पखारूंगा उनके रज को झारूँगा

पान करूंगा चरणामृत नाव पे तब बैठारुंगा


ऐसा कहते हैं सब लोग

के जादू भरी पदरज है तुम्हारी

इस पद रज का स्पर्श हुआ तो

मोन शिला बानी सुन्दर नारी

मेरे पास है बस एक नईया

मेरे पास है बस एक नईया

सारे कुटुम्ब की पालना हारी

नाओ बानी अगर नार तो

आएगा मुझ निर्धन पे संकट भारी

एक नारी का कथिन है पालन

कैसे पालूंगा दो दो नारी


केवट ने कहा रघुराई से उतराई ना लूंगा हे भगवन लिरिक्स (kevat ne kaha raghuraee se utaraee na loonga he bhagavaan Lyrics in Hindi)

जिस अंधे ने प्रभु को देखा नहीं (Jis Andhe Ne Prabhu Ko Dekha Nahi Lyrics in Hindi) 


केवट प्रभु के पाओ पखारन हेतु

कठौती में जल भर लाया

पाओ पखार पिया चरणामृत

फिर प्रभु को नौका में बिठाया

गंगा पार पहुंच कर जब

गंगा पार पहुंच कर जब

जब उतराई देने का अवसर आया

देने लगी वैदेही अंगुठी

तो ना मैं सर केवट ने हिलाया

देने लगी वैदेही अंगुठी

तो ना मैं सर केवट ने हिलाया


सुनो मेरी विनती राम सरकार

राम सरकार सिया सरकार

नाई धोभी धीमर केवट और लोहार सुनार

एकदुजे से लेना मजुरी इनका एक व्यापार

मैं नदिया का केवट तुम भव सागर तारनहार

राम प्रभु मेरी मजदूरी तुम पर रही उधार


आउं मैं जब घाट तुम्हारे 

आउं मैं जब घाट तुम्हारे 

कर दीजो बेड़ा मेरा पार

सुनो मेरी विनती राम सरकार

राम सरकार सिया सरकार


केवट ने जो मांगी उतराई

मन ही मन प्रण किया रघुराई

उतराई अवष्य चुकानी है

ये रामायण श्री राम की

अमर कहानी है

ये रामायण श्री राम की

अमर कहानी है


केवट को वचन देकर

मुस्कराते हुए विदा लेकर

सिया सहित वन मार्ग पर

चल दिये युगल किशोर

भूली असंग निषाद भी

बंधानीर की ओर


सांझ सिय सहित रघुनन्दन

गंगा जी का करके वंदन

भारद्वाज के आश्रम आये

मुनि को विनय प्रणाम जानाये

ऋषि ने प्रभु को हृदय लगाया

अकथनीय परमानंद पया

कुशल पुच्छ आसन बैठे

पद पूजक मुनि भये सुखारे


कंदमूल फल पारस कर

अति प्रसन्न ऋषि राज

ज्ञान ध्यान तप जोग जप

सफल भये सब आज

कर मुनि से सत्संग प्रभु

किआ ताह रन प्रवास

चंद्रा अवस्था में हुआ

आध्यात्मिक आभास


हो … प्रात नहाये पुनये त्रिवेणी

सरिता त्रय बुध मंगल देनि

हो ..राम प्रयाग महात्न

बखाना तीर्थेश्वर यह सरस सुहाना

हो …नाम प्रयाग यज्ञ हुए अगणित

कण कण मंत्रो से अनुगुंजित

हो तीर्थेश्वर की महिमा गाकर

आश्रम मे पुनि आये रघुवर


शुभाशीष मुनिराज से मांग रहे जगदीश

पुछ रहे वनवास को जाए कहा मुनीश

मुनि बोले तुम मुझे जगत

बसा तुम विद्यामान सर्वत्र सदा

तुमका क्या रहा सूझनी है


ये रामायण श्री राम की अमर कहानी है

ये रामायण सिया राम की अमर कहानी है ||


ऐसा कहते हैं सब लोगों की जादू भरी पग रज है तुम्हारी (Aisa Kahte Hai Sab Log Ki Jadu Bhari Pag Raj Hai Tumhari Lyrics in Hindi) - Bhaktilok


ऐसा कहते हैं सब लोगों की जादू भरी पग रज है तुम्हारी (Aisa Kahte Hai Sab Log Ki Jadu Bhari Pag Raj Hai Tumhari Lyrics in English) -


aagya paye nishad ne kevat liyo bulaye

par kevat ne ram ko di yeh maang sunaye


pahle charan pakharunga unki raj ko jhaarunga

paan karunga charnamrit naope tab baithaarunga


Aisa Kahate Hain Sab log

kay Jadu Bhari padraj Hai Tumhari

is pad raj ka sparsh hua to

mon shila bani sundar nari

mere pass hai bas eknaiya

mere pass hai bas ek naiya

sare kutumb ki palan hari

nao bani yadi naar to

aayega mujh nirdhan pe sankat bhaari

ek naari ka kathin hai palan

kaise palunga do do naari


kevat prabhu ke pao pakhaaran hetu

kathoti me jal bhar laya pao pakhaar piya

charnamrit phir prabhu ko nauka me bithaya

ganga paar pahuch kar jab

ganga paar pahuch kar jab

jab utrai dene ka avsar aaya

dene lagi vaidehi anguthi

to na me sar kevat ne hilaya

dene lagi vaidehi anguthi

to na me sar kevat ne hilaya


हे राम हे राम भजन हिंदी में (He Ram He Ram Bhajan lyrics in Hindi)

ये माया तेरी बहुत कठिन है राम (Ye Maya Teri Bahut Kathin Hai Ram Lyrics in Hindi)


suno mere vinati ram sarkar

ram sarkar siya sarkar

nai dhobhi dhimar kevat aur lohar sunar

are ekduje se lena majuri inka ek vyapaar

main nadiya ka kevat tum bhav sagar taranhaar

ram prabhu meri majduri tum par rahi udhaar


aaun main jab ghat tumhare

aaun main jab ghat tumhare

kar dijo beda mera paar

suno meri vinati ram sarkar

ram sarkar siya sarkar


kevat ne jo maangi utrai

man hi man pran kiya raghurai

utrai avashya chukani hai

ye ramayan shri ram ki

amar kahani hai ye ramayan

shri ram ki amar kahani hai


kevat ko vachan dekar

muskrate hue vida lekar

siya sahit van marg par

chal diye yugal kishore

bhuli asang nishad bhi

badhanir ki aur


saanjh siya sahit raghunandan

ganga ji ka karke vandan

bhardwaj ke aashram aaye

muni ko vinay pranam janaye

rishi ne prabhu ko hrudaye lagaya

akathaniye paramanand paya

kushal pucch aasan baithare

pad pujak muni bhaye sukhare


kandmool phal paras kar

ati prasan rishi raj

gyan dhyan tap jog jap

safal bhaye sab aaj

kar muni se satsang prabhu

kiya tah ran pravas

chandra avastha me hua adhyatmik aabhas


hooo… pratah nahaye punaye triveni

sarita traye budh mangal deni


hoo .. ram prayag mahatan

bakhana tirtheshwar yah saras suhana

hoo… naam prayag yagya hue anganit

kan kan mantro se anugunjit

hooo tirtheshwar ki mahima gaa kar

asharam puni aaye raghuvar


shubhashish muniraj se maang rahe jagdish

pucch rahe vanvas ko jaye kaha munish


muni bole tum me jagat basa

tum vidhyaman sarvatra sada

tumka kya raha sujhani hai


ye ramayan shri ram ki amar kahani hai

ye ramayan siya ram ki amar kahani hai


Read more:-



Ads Area