Type Here to Get Search Results !

जन्म के साथी मात-पिता है कर्म के साथी कोई नहीं लिरिक्स (Janam Ke Sathi Mata Pita Karam Ka Sathi Koi Nahi Lyrics in Hindi) - NirgunBhajan - Bhaktilok

 

जन्म के साथी मात-पिता है कर्म के साथी कोई नहीं लिरिक्स (Janam Ke Sathi Mata Pita Karam Ka Sathi Koi Nahi Lyrics in Hindi) - 


जन्म के साथी मात-पिता है कर्म के साथी कोई नहीं। 

धर्म के साथी ईश्वर है अधर्म का साथी कोई नही।


कांधे कांधे आई पत्नी कांधे कांधे जाएगी।

 तन मन धन सब कुछ दे देगी कंधा ना दे पाएगी।


सुख का साथी दुनिया है पर दुख का साथी कोई नही।

जन्म के साथी मात-पिता है कर्म के साथी कोई नहीं।


जन्म के साथी मात-पिता है कर्म के साथी कोई नहीं। 

धर्म के साथी ईश्वर है अधर्म का साथी कोई नही।


बेटी तो रो लेगी घर में बेटा साथ न छोड़ेगा।

दफन करेगा मिट्टी में तुझे जला जला के छोड़ेगा।


बेटी तो रो लेगी घर में बेटा साथ न छोड़ेगा।

दफन करेगा मिट्टी में तुझे जला जला के छोड़ेगा।


गम के हमदम लाखों बैठे गम का साथी कोई नही।

जन्म के साथी मात-पिता है कर्म के साथी कोई नहीं।


जन्म के साथी मात-पिता है कर्म के साथी कोई नहीं। 

धर्म के साथी ईश्वर है अधर्म का साथी कोई नही।


एक भाई भाई की खातिर चार घड़ी ही रोएगा।

अंतिम यात्रा में भाई को चार कदम ही ढोएगा।


एक भाई भाई की खातिर चार घड़ी ही रोएगा।

अंतिम यात्रा में भाई को चार कदम ही ढोएगा।


जीते जी के रिश्ते नाते मरण का साथी कोई नही।

जन्म के साथी मात-पिता है कर्म के साथी कोई नहीं।


जन्म के साथी मात-पिता है कर्म के साथी कोई नहीं। 

धर्म के साथी ईश्वर है अधर्म का साथी कोई नही।


मित्र तुम्हारे शत्रु बनेंगे वह भी मुख को मोड़ेंगे।

ले जाकर शमशान में एकदीन तुझे अकेला छोड़ेंगे।


मित्र तुम्हारे शत्रु बनेंगे वह भी मुख को मोड़ेंगे।

ले जाकर शमशान में एकदीन तुझे अकेला छोड़ेंगे।


सब बाधा किए सहन बराबर सहन का साथी कोई नही।

जन्म के साथी मात-पिता है कर्म के साथी कोई नहीं।


जन्म के साथी मात-पिता है कर्म के साथी कोई नहीं। 

धर्म के साथी ईश्वर है अधर्म का साथी कोई नही।


जन्म के साथी मात-पिता है कर्म के साथी कोई नहीं लिरिक्स (Janam Ke Sathi Mata Pita Karam Ka Sathi Koi Nahi Lyrics in English) -


janm ke mitr maata-pita hain karm ke mitr koee nahin.

dharm ka mitr eeshvar adharm ka mitr hai koee nahin.


kaandhe kaandhe aaee patnee kaandhe kaandhega.

 tan man dhan sab kuchh devee kandha na de sarojoha.


sukh ka dost duniya par hai dukh ka dost koee nahin.

janm ke mitr maata-pita hain karm ke mitr koee nahin.


janm ke mitr maata-pita hain karm ke mitr koee nahin.

dharm ka mitr eeshvar adharm ka mitr hai koee nahin.


betee to romaantik ghar mein beta saath na chhodega.

mittee ka visarjan aapake jalae jala ke chhodega.


betee to romaantik ghar mein beta saath na chhodega.

mittee ka visarjan aapake jalae jala ke chhodega.


gam ke hamadam laakhon baithe gam ka dost koee nahin.

janm ke mitr maata-pita hain karm ke mitr koee nahin.


janm ke mitr maata-pita hain karm ke mitr koee nahin.

dharm ka mitr eeshvar adharm ka mitr hai koee nahin.


ek bhaee ka kiradaar chaar ghadee hee roega.

antim yaatra mein bhaee ko chaar kadam hee dhona padega.


ek bhaee ka kiradaar chaar ghadee hee roega.

antim yaatra mein bhaee ko chaar kadam hee dhona padega.


jayoti jee ke rishtedaar maran ka dost koee nahin.

janm ke mitr maata-pita hain karm ke mitr koee nahin.


janm ke mitr maata-pita hain karm ke mitr koee nahin.

dharm ka mitr eeshvar adharm ka mitr hai koee nahin.


mitr shatru shatru vah bhee mukh ko mod denge.

le paryatak shamashaan mein ekadin too akela chhod dega.


mitr shatru shatru vah bhee mukh ko mod denge.

le paryatak shamashaan mein ekadin too akela chhod dega.


sab baadhaen baraabar sahanashakti ka saathee koee nahin.

janm ke mitr maata-pita hain karm ke mitr koee nahin.


janm ke mitr maata-pita hain karm ke mitr koee nahin.

dharm ka mitr eeshvar adharm ka mitr hai koee nahin.||


Ads Area