Type Here to Get Search Results !

मेरे मालिक के दरबार में सब लोगों का खाता (Mere Malik Ke Darbar Me Lyrics in Hindi) - Bhaktilok

 मेरे मालिक के दरबार में सब लोगों का खाता (Mere Malik Ke Darbar Me Lyrics in Hindi)


मेरे मालिक के दरबार में,

सब लोगो का खाता

जितना जिसके  भाग्य में होता ,

वो उतना ही पाता

मेरे मालिक के दरबार में....


क्या साधू क्या संत गृहस्थी,

क्या राजा क्या रानी,

प्रभु की पुस्तक में लिखी है,

सब की कर्म कहानी,

वही सभी के जमा खरच का,

सही हिसाब लगाता, 

मेरे मालिक के दरबार में ... 


बड़े कड़े कानून प्रभु के,

बड़ी कड़ी मर्यादा,

किसी को कौड़ी कम नही देता,

किसी को दमड़ी ज्यादा

इसलिए तो दुनिया में ये 

जगत सेठ कहलाता, 

मेरे मालिक के दरबार में ...


करते हैं फ़ैसला सभी का 

प्रभु आसन पर  डट के,

इनका फैसला कभी ना बदले,

लाख कोई सर पटके,

समझदार तो चुप रहता हैं,

मूरख़ शोर मचाता, 

मेरे मालिक के दरबार में....


मेरे मालिक के दरबार में सब लोगों का खाता (Mere Malik Ke Darbar Me Lyrics in English)


mere maalik ke darabaar mein,

sabhee logo ka khaata

aakhir kis bhaagy mein hota hai,

vo barbaad hee paata hai

mere maalik ke darabaar mein....


kya saadhu kya sant grhasthee,

kya raaja kya raanee,

prabhu kee pustak mein likha hai,

sab kee karm kahaanee,

sabhee ke jama kharch ka,

sahee bhugataan sthaan,

mere maalik ke darabaar mein...


bade paimaane par kaanoon prabhu ke,

badee kadee,

kisee ko kaudee kam nahin detee,

kisee ko damadee sabase jyaada

isalie to duniya mein ye

jagat seth,

mere maalik ke darabaar mein...


faasala sab karate hain

prabhu aasan par datt ke,

inaka nirnay kabhee na badale,

laakh koee sar paatake,

dekho to chup rahate hain,

moorakh shor machaata,

mere maalik ke darabaar mein....



Ads Area