राम का सुमिरन (Ram Ka Sumiran Lyrics in Hindi) - by Nitin Mukesh Shri Ram Bhajan - Bhaktilok

Deepak Kumar Bind

 

राम का सुमिरन (Ram Ka Sumiran Lyrics in Hindi) - 


श्री राम जय राम जय जय राम |

श्री राम जय राम जय जय राम |

श्री राम जय राम जय जय राम |

श्री राम जय राम जय जय राम |

श्री राम जय राम जय जय राम |

श्री राम जय राम जय जय राम |


राम का सुमिरन कर ले मनवा 

राम का सुमिरन कर ले  |

राम का सुमिरन कर ले मनवा 

राम का सुमिरन कर ले  |

इस जीवन के रहते पल-पल

प्रभु का चिंतन कर ले  ||


इतरा के इस नश्वर तन पे क्यों करता  अभिमान  रे  

इतरा के इस नश्वर तन पे क्यों करता  अभिमान  रे  |

रहे नहीं हैं यहां किसीके सब दिन एक समान रे 

रहे नहीं हैं यहां किसीके सब दिन एक समान रे |

राम का सुमिरन कर ले मनवा 

राम का सुमिरन कर ले  ||


दुखियारों को गले लगा ले 

बेबस को तू अपना ले |

सुख में तो सब ही हँसते हैं पर

तू दुःख में मुस्का ले |


हो दुखियारों को गले लगा ले

बेबस को तू अपना ले |

सुख में तो सब ही हँसते हैं पर

तू दुःख में मुस्का ले |

रामकृपा से काम सभी हो जाएंगे

आसान रे  |

रामकृपा से काम सभी हो जाएंगे

आसान रे  |

इतरा के इस नश्वर तन पे क्यों करता  अभिमान  रे  |

रहे नहीं हैं यहां किसीके सब दिन एक समान रे |

राम का सुमिरन कर ले मनवा 

राम का सुमिरन कर ले  ||


मोह न कर इस तन और धन का

रख निर्मल दर्पण इस मन का  |

कर सत्संग सदा दिन  रैना

साथ छोड़ दे तू दुर्जन का  |

हो मोह न कर इस तन और धन का

रख निर्मल दर्पण इस मन का  |

कर सत्संग सदा दिन  रैना

साथ छोड़ दे तू दुर्जन का  |

काहे बांधे पाप गठरिया हे मूरख

नादान रे |

काहे बांधे पाप गठरिया हे मूरख

नादान रे |

इतरा के इस नश्वर तन पे क्यों करता  अभिमान  रे  |

रहे नहीं हैं यहां किसीके सब दिन एक समान रे |

राम का सुमिरन कर ले मनवा  

राम का सुमिरन कर ले  ||


राम नाम की माला जप ले

कष्ट कभी ना आयेंगे  |

नाग वासना के ज़हरीले

कभी नही डस  पाएंगे  |

हो राम नाम की माला जप ले

कष्ट कभी ना आयेंगे  |

नाग वासना के ज़हरीले

कभी नही डस  पाएंगे  |

खोल तेरे अंतर के नैना

सच है क्या  पहचान  रे |

खोल तेरे अंतर के नैना 

सच है क्या  पहचान  रे |

इतरा के इस नश्वर तन पे क्यों करता  अभिमान  रे  |

रहे नहीं हैं यहां किसीके सब दिन एक समान रे |

राम का सुमिरन कर ले मनवा  

राम का सुमिरन कर ले  |

इस जीवन के रहते पल-पल

प्रभु का चिंतन कर ले  ||


राम का सुमिरन कर ले मनवा  

राम का सुमिरन कर ले  |

राम का सुमिरन कर ले मनवा  

राम का सुमिरन कर ले  |

राम का सुमिरन कर ले मनवा  

राम का सुमिरन कर ले  ||



राम का सुमिरन (Ram Ka Sumiran Lyrics in English) -


shree raam jay raam jay jay raam |

shree raam jay raam jay jay raam |

shree raam jay raam jay jay raam |

shree raam jay raam jay jay raam |

shree raam jay raam jay jay raam |

shree raam jay raam jay jay raam |


raam ka sumiran kar le manava

raam ka sumiran kar le |

raam ka sumiran kar le manava

raam ka sumiran kar le |

is jeevan ke jeevit pal-pal

prabhu ka dhyaan kar le ||


itara ke is nashvar tan pe kyon abhimaan re

itara ke is nashvar tan pe abhimaan re kyon |

yahaan nahin hain kisee ke sab din ek samaan re

yahaan nahin hain kisee ke sabhee din ek samaan re |

raam ka sumiran kar le manava

raam ka sumiran kar le ||


dukhiyaaron ko gale laga le

bebas ko too apana le |

sukh mein to sab hee hansate hain par

too duhkh mein muska le |


ho dukhiyaaron ko gale laga le

bebas ko too apana le |

sukh mein to sab hee hansate hain par

too duhkh mein muska le |

raamakrpa se sab kaam ho jaayenge

aasaan re |

raamakrpa se sab kaam ho jaayenge

aasaan re |

itara ke is nashvar tan pe abhimaan re kyon |

yahaan nahin hain kisee ke sabhee din ek samaan re |

raam ka sumiran kar le manava

raam ka sumiran kar le ||


moh na kar is tan aur dhan ka

is man ka nirmal darpan |

kar satsang saat din raat

saath chhod de too durjan ka |

ho moh na kar is tan aur dhan ka

is man ka nirmal darpan |

kar satsang saat din raat

saath chhod de too durjan ka |

kaahe baandhe paap gathariya he moorkh

naadaan re |

kaahe baandhe paap gathariya he moorkh

naadaan re |

itara ke is nashvar tan pe abhimaan re kyon |

yahaan nahin hain kisee ke sabhee din ek samaan re |

raam ka sumiran kar le manava

raam ka sumiran kar le ||


raam naam kee mangal jap le

kasht kabhee na aayenge |

naag veediyo ke zahareele

kabhee nahin das jaayegee |

ho raam naam ka mangal jap le

kasht kabhee na aayenge |

naag veediyo ke zahareele

kabhee nahin das jaayegee |

khol tere antar ke naina

sach hai kya pahachaan re |

khol tere antar ke naina

sach hai kya pahachaan re |

itara ke is nashvar tan pe abhimaan re kyon |

yahaan nahin hain kisee ke sabhee din ek samaan re |

raam ka sumiran kar le manava

raam ka sumiran kar le |

is jeevan ke jeevit pal-pal

prabhu ka dhyaan kar le ||


raam ka sumiran kar le manava

raam ka sumiran kar le |

raam ka sumiran kar le manava

raam ka sumiran kar le |

raam ka sumiran kar le manava

raam ka sumiran kar le ||



Post a Comment

0Comments

If you liked this post please do not forget to leave a comment. Thanks

Post a Comment (0)

#buttons=(Accept !) #days=(20)

Our website uses cookies to enhance your experience. Check Now
Accept !