Type Here to Get Search Results !

कर चले हम फिदा जानो तन साथियों (kar chale ham phida jaano tan saathiyon Lyrics in Hindi) - Desh Bhakti Song by Sanjay Gulati - Bhaktilok

 

कर चले हम फिदा जानो तन साथियों (kar chale ham phida jaano tan saathiyon Lyrics in Hindi) - 


कर चले हम फ़िदा जान-ओ-तन साथियों

अब तुम्हारे हवाले वतन साथियों     


सांस थमती गई नब्ज़ जमती गई

फिर भी बढ़ते कदम को न रुकने दिया

कट गये सर हमारे तो कुछ ग़म नहीं

सर हिमालय का हमने न झुकने दिया

मरते मरते रहा बांकापन साथियों

अब तुम्हारे हवाले वतन साथियों 


ज़िंदा रहने के मौसम बहुत हैं मगर

जान देने की रुत रोज़ आती नहीं

हुस्न और इश्क़ दोनों को रुसवा करे 

वो जवानी जो खूँ में नहाती नहीं

बाँध लो अपने सर पर कफ़न साथियों

अब तुम्हारे हवाले वतन साथियों 


राह क़ुर्बानियों की न वीरान हो

तुम सजाते ही रहना नये क़ाफ़िले

फ़तह का जश्न इस जश्न के बाद है

ज़िंदगी मौत से मिल रही है गले

आज धरती बनी है दुल्हन साथियों

अब तुम्हारे हवाले वतन साथियों 


खींच दो अपने खूँ से ज़मीं पर लकीर

इस तरफ़ आने पाये न रावण कोई

तोड़ दो हाथ अगर हाथ उठने लगे

छूने पाये न सीता का दामन कोई

राम भी तुम तुम्हीं लक्ष्मण साथियों

अब तुम्हारे हवाले वतन साथियों 


कर चले हम फिदा जानो तन साथियों (kar chale ham phida jaano tan saathiyon Lyrics in English) -


kar chale ham phida jaan-o-tan saathiyon

abafe vatan saathiyon


sansaar thamaatee gaee nabz jamatee gaee

phir bhee badhate kadam ko na joda

kat gaya sar hamaara to kuchh gam nahin

sar himaalay ka hamane na jhukane diya

marate marate raha bainkaapan saathiyon

abafe vatan saathiyon


zinda rahane ke mausam bahut hain magar

jaan de kee rut roz aatee nahin

husn aur ishq donon ko rusava kare

vo javaanee jo khoon mein nahaatee nahin

apane sar par kafan saathiyon ko chhodo

abafe vatan saathiyon


raah kurbaaniyon kee na veeraan ho

tum sajaate hee naye kaafile

fatah ka jashn is jashn ke baad hai

jindagee maut se mil rahee hai gala

aaj dharatee banee hai dulhan saathiyon

abafe vatan saathiyon


do apane khoon se jameen par roodhi kheencho

is taraph aane vaale na raavan koee

do haath todo agar haath dobaara chaaloo karo

rikvest pae na seeta ka daaman koee

raam bhee tumheen lakshman saathiyon

abafe vatan saathiyon


*** Singer - Sanjay Gulati ***


Ads Area