Type Here to Get Search Results !

करवा चौथ व्रत कथा साहूकार के सात लड़के एक लड़की की कहानी इन हिंदी(Karwa Chauth Vrat Katha - Sahukar ke sat ladake kahani) - Bhaktilok


करवा चौथ व्रत कथा साहूकार के सात लड़के एक लड़की की कहानी इन हिंदी(Karwa Chauth Vrat Katha - Sahukar ke sat ladake kahani) :- 


करवा चौथ व्रत कथा साहूकार के सात लड़के एक लड़की की कहानी इन हिंदी(Karwa Chauth Vrat Katha - Sahukar ke sat ladake kahani) - Bhaktilok


साहूकार के सात लड़के एक लड़की की कहानी इन हिंदी(Sahukar ke sat ladake aur ek ladaki ki kahani):- 


श्री गणेशाय नमः !

एक साहूकार के सात लड़के और एक लड़की थी। एक बार कार्तिक मास की कृष्ण पक्ष की चतुर्थी तिथि को सेठानी सहित उसकी सातों बहुएं और उसकी बेटी ने भी करवा चौथ का व्रत रखा। रात्रि के समय जब साहूकार के सभी लड़के भोजन करने बैठे तो उन्होंने अपनी बहन से भी भोजन कर लेने को कहा। इस पर बहन ने कहा- भाई, अभी चांद नहीं निकला है। चांद के निकलने पर उसे अर्घ्य देकर ही मैं आज भोजन करूंगी।


करवा चौथ व्रत कथा साहूकार के सात लड़के एक लड़की की कहानी इन हिंदी(Karwa Chauth Vrat Katha - Sahukar ke sat ladake kahani) - Bhaktilok

साहूकार के बेटे अपनी बहन से बहुत प्रेम करते थे, उन्हें अपनी बहन का भूख से व्याकुल चेहरा देख बेहद दुख हुआ। साहूकार के बेटे नगर के बाहर चले गए और वहां एक पेड़ पर चढ़ कर अग्नि जला दी। घर वापस आकर उन्होंने अपनी बहन से कहा- देखो बहन, चांद निकल आया है। अब तुम उन्हें अर्घ्य देकर भोजन ग्रहण करो। साहूकार की बेटी ने अपनी भाभियों से कहा- देखो, चांद निकल आया है, तुम लोग भी अर्घ्य देकर भोजन कर लो। ननद की बात सुनकर भाभियों ने कहा- बहन अभी चांद नहीं निकला है, तुम्हारे भाई धोखे से अग्नि जलाकर उसके प्रकाश को चांद के रूप में तुम्हें दिखा रहे हैं।

करवा चौथ व्रत कथा साहूकार के सात लड़के एक लड़की की कहानी इन हिंदी(Karwa Chauth Vrat Katha - Sahukar ke sat ladake kahani) - Bhaktilok

साहूकार की बेटी अपनी भाभियों की बात को अनसुनी करते हुए भाइयों द्वारा दिखाए गए चांद को अर्घ्य देकर भोजन कर लिया। इस प्रकार करवा चौथ का व्रत भंग करने के कारण विघ्नहर्ता भगवान श्री गणेश साहूकार की लड़की पर अप्रसन्न हो गए। गणेश जी की अप्रसन्नता के कारण उस लड़की का पति बीमार पड़ गया और घर में बचा हुआ सारा धन उसकी बीमारी में लग गया।


करवा चौथ व्रत कथा साहूकार के सात लड़के एक लड़की की कहानी इन हिंदी(Karwa Chauth Vrat Katha - Sahukar ke sat ladake kahani) - Bhaktilok

साहूकार की बेटी को जब अपने किए हुए दोषों का पता लगा तो उसे बहुत पश्चाताप हुआ। उसने गणेश जी से क्षमा प्रार्थना की और फिर से विधि-विधान पूर्वक चतुर्थी का व्रत शुरू कर दिया। उसने उपस्थित सभी लोगों का श्रद्धानुसार आदर किया और तदुपरांत उनसे आशीर्वाद ग्रहण किया।


करवा चौथ व्रत कथा साहूकार के सात लड़के एक लड़की की कहानी इन हिंदी(Karwa Chauth Vrat Katha - Sahukar ke sat ladake kahani) - Bhaktilok

इस प्रकार उस लड़की के श्रद्धा-भक्ति को देखकर एकदंत भगवान गणेश जी उसपर प्रसन्न हो गए और उसके पति को जीवनदान प्रदान किया। उसे सभी प्रकार के रोगों से मुक्त करके धन, संपत्ति और वैभव से युक्त कर दिया।


करवा चौथ व्रत कथा साहूकार के सात लड़के एक लड़की की कहानी इन हिंदी(Karwa Chauth Vrat Katha - Sahukar ke sat ladake kahani) - Bhaktilok


करवा चौथ माता की जय(Karwa Chauth Mata ki jay Katha) !


करवा चौथ व्रत कथा और भी देखे:-










Ads Area