Type Here to Get Search Results !

कबीर तहाँ न जाइये जहाँ सिध्द को गाँव दोहे का अर्थ(Kabir Tanha Na Jayiye Janha Sidhdh Ko Ganv Dohe Ka Arth in Hindi)

 

कबीर तहाँ न जाइये जहाँ सिध्द को गाँव दोहे का अर्थ(Kabir Tanha Na Jayiye Janha Sidhdh Ko Ganv Dohe Ka Arth in Hindi):-


कबीर तहाँ न जाइये, जहाँ सिध्द को गाँव।
स्वामी कहै न बैठना, फिर-फिर पूछै नाँव।

 

कबीर तहाँ न जाइये जहाँ सिध्द को गाँव दोहे का अर्थ(Kabir Tanha Na Jayiye Janha Sidhdh Ko Ganv Dohe Ka Arth in Hindi)


कबीर तहाँ न जाइये जहाँ सिध्द को गाँव दोहे का अर्थ(Kabir Tanha Na Jayiye Janha Sidhdh Ko Ganv Dohe Ka Arth in Hindi):-

अपने को सर्वोपरि मानने वाले अभिमानी सिध्दों के स्थान पर भी मत जाओ। क्योंकि स्वामीजी ठीक से बैठने तक की बात नहीं कहेंगे, बारम्बार नाम पूछते रहेंगे।



Ads Area