Type Here to Get Search Results !

कलयुग बैठा मार कुंडली जाऊँ तो मैं कहाँ जाऊँ भजन लिरिक्स (Kaliyug Betha Mar Kundli Lyrics in Hindi) - Shree Ram Bhajan Master Rana - Bhaktilok

 

कलयुग बैठा मार कुंडली जाऊँ तो मैं कहाँ जाऊँ भजन लिरिक्स (Kaliyug Betha Mar Kundli Lyrics in Hindi) - 


कलयुग बैठा मार कुंडली

जाऊँ तो मैं कहाँ जाऊँ

अब हर घर में रावण बैठा

इतने राम कहाँ से लाऊँ।।


दशरथ कौशल्या जैसे

मात पिता अब भी मिल जाये

पर राम सा पुत्र मिले ना

जो आज्ञा ले वन जाये

दशरथ कौशल्या जैसे

मात पिता अब भी मिल जाये

पर राम सा पुत्र मिले ना

जो आज्ञा ले वन जाये

भरत लखन से भाई

ढूंढ कहाँ अब मैं लाऊँ

अब हर घर में रावण बैठा

इतने राम कहाँ से लाऊँ।।


जिसे समझते हो तुम अपना

जड़े खोदता आज वही

रामायण की बाते जैसे

लगती है सपना कोई

जिसे समझते हो तुम अपना

जड़े खोदता आज वही

रामायण की बाते जैसे

लगती है सपना कोई

तब थी दासी एक मंथरा

जो में अब घर घर पाऊ

अब हर घर में रावण बैठा

इतने राम कहाँ से लाऊँ।।


आज दास का खेम बना है

मालिक से तकरार करे

सेवा भाव तो दूर रहा

वो वक्त पड़े तो वार करे

आज दास का खेम बना है

मालिक से तकरार करे

सेवा भाव तो दूर रहा

वो वक्त पड़े तो वार करे

हनुमान सा दास आज में

ढूंढ कहा से अब लाऊ

अब हर घर में रावण बैठा

इतने राम कहाँ से लाऊँ।।


रौंद रहे बगिया को देखो

खुद ही उसके रखवाले

अपने घर की नीव खोदते

देखे मेने घर वाले

रौंद रहे बगिया को देखो

खुद ही उसके रखवाले

अपने घर की नीव खोदते

देखे मेने घर वाले

तब था घर का एक ही भेदी

वही आज घर घर पाऊँ

अब हर घर में रावण बैठा

इतने राम कहाँ से लाऊँ।।


कलयुग बैठा मार कुंडली

जाऊँ तो मैं कहाँ जाऊँ

अब हर घर में रावण बैठा

इतने राम कहाँ से लाऊँ।।


कलयुग बैठा मार कुंडली जाऊँ तो मैं कहाँ जाऊँ भजन लिरिक्स (Kaliyug Betha Mar Kundli Lyrics in Hindi) - Shree Ram Bhajan Master Rana - Bhaktilok


कलयुग बैठा मार कुंडली जाऊँ तो मैं कहाँ जाऊँ भजन लिरिक्स (Kaliyug Betha Mar Kundli Lyrics in English) -


kalayug mara sarpil

jaoon to main kahaan jaoon

ab har ghar mein raavan baitha

itane raam kahaan se laoon..


dasharath kaushalya jaise

maata pita ab bhee mil jaen

par raam saaputr mile na

jo aagya le lo

dasharath kaushalya jaise

maata pita ab bhee mil jaen

par raam saaputr mile na

jo aagya le lo

bharat laakh se bhaee

ab dhoondh loon main

ab har ghar mein raavan baitha

itane raam kahaan se laoon..


yah samajho tum apana

jade khodata aaj vahee

raamaayan kee baate jaise

lagata hai sapana nan

yah samajho tum apana

jade khodata aaj vahee

raamaayan kee baate jaise

lagata hai sapana nan

tab thee daasee ek manthara

jo ab ghar ghar pau ​​mein hai

ab har ghar mein raavan baitha

itane raam kahaan se laoon..


aaj daas ka khem bana hai

maalik se takaraar kare

seva bhaav to door raha

vo der pade to vaar kare

aaj daas ka khem bana hai

maalik se takaraar kare

seva bhaav to door raha

vo der pade to vaar kare

hanumaan sa daas aaj mein

kaha se ab lau

ab har ghar mein raavan baitha

itane raam kahaan se laoon..


raungand bobiya ko dekhen

khud hee rakhavaale

apane ghar kee neev khodate hain

dekhe mene ghar vaale

raungand bobiya ko dekhen

khud hee rakhavaale

apane ghar kee neev khodate hain

dekhe mene ghar vaale

tab tha ghar ka ek hee bhedee

vahee aaj ghar ghar paoon

ab har ghar mein raavan baitha

itane raam kahaan se laoon..


kalayug mara sarpil

jaoon to main kahaan jaoon

ab har ghar mein raavan baitha

itane raam kahaan se laoon..||


*** Singer - Master Rana ***







Ads Area