Type Here to Get Search Results !

मेरा क्या कसूर मईया लिरिक्स (Mera Kya Kasoor Maiya Lyrics in Hindi) - Mata Rani Ke Bhajan Mata Bhajan - Bhaktilok


मेरा क्या कसूर मईया लिरिक्स (Mera Kya Kasoor Maiya Lyrics in Hindi) - 


मेरा क्या कसूर मैया

करदिया क्यो मुझे अपने से दूर।।


सुबह शाम करता हू भक्ति तुम्हारी

तेरे दर आओ कैसे यही है लाचारी।।


सोचता हू हाए मैं बड़ा बदनसीब हू

धन दौलत नही मैं तो ग़रीब हू।।


दिन में फेर दे तो अवँगा ज़रूर

करदिया क्यो मुझे अपने से दूर।।


पता नही कैसा होगा मैया तेरा द्वारा

देखु एक बार तेरे भवन का नज़ारा।।


कर उपकार बस इतना तू मुझपे

फिर कुछ और ना माँगूंगा तुझसे।।


रखेगी तू जिस रंग वही मंज़ूर

करदिया क्यो मुझे अपने से दूर।।


तूने कितनो की बिगड़ी बनाई है

माता रानी अब जाके मेरी बारी आई है।।


सुना है के तू सारे जाग की है सुनती

मुझे भी यकीन हो जो सुन मेरी विनती।।


सच मान डाती मैं तो हू बेकसूर

मेरा कसूर मैया मेरा क्या कसूर मैया

करदिया क्यो मुझे अपने से दूर।।


मेरा क्या कसूर मईया लिरिक्स (Mera Kya Kasoor Maiya Lyrics in English) - 


Mera Kya Kasoor Maiya

Kardiya Kyo Mujhe Apne Se Door


Subah Shaam Karta Hu Bhakti Tumhari

Tere Dar Aau Kaise Yahi Hai Lachari


Sochta Hu Haye Main Bada Badnaseeb Hu

Dhan Daulat Nahi Main To Gareeb Hu


Din Mein Fer De To Aaunga Jaroor

Kardiya Kyo Mujhe Apne Se Door


Pata Nahi Kaisa Hoga Maiya Tera Dwara

Dekhu Ek Baar Tere Bhawan Ka Nazara


Kar Upkaar Bas Itna Tu Mujhpe

Fir Kuchh Aur Na Maangunga Tujhse


Rakhegi Tu Jis Rang Vahi Manzoor

Kardiya Kyo Mujhe Apne Se Door


Tune Kitno Ki Bigadi Banayi Hai

Mata Rani Ab Jaake Meri Baari Aayi Hai


Suna Hai Ke Tu Saare Jag Ki Hai Sunti

Mujhe Bhi Yakeen Ho Jo Sun Meri Vinti


Sach Maan Daati Main To Hu Bekasur

Mera Kasoor Maiya Mera Kya Kasur Maiya

Kardiya Kyo Mujhe Apne Se Door


Ads Area