Type Here to Get Search Results !

जब भक्त बुलाते हैँ हरि दौड़ के आते हैँ (jab bhak bulate hain hari daud ke aate hain Lyrics in Hindi)

 

जब भक्त बुलाते हैँ हरि दौड़ के आते हैँ (jab bhak bulate hain hari daud ke aate hain Lyrics in Hindi)


जब भक्त बुलाते हैँ

जब भक्त बुलाते हैँ, हरि दौड़ के आते हैँ ॥

वो तो दीन और दुःखीओं को ॥

आ के गले लगाते हैँ, हरि दौड़ के आते हैँ,

जब भक्त बुलाते हैँ...


द्रोपदी ने जब, उन्हें पुकारा, दौड़े दौड़े आ गए  ।

भरी सभा में, चीर बढ़ा के, उसकी लाज बचा गए ॥

वो बहुत दयालु हैँ, वो दया के सागर हैँ,

वो चीर बढ़ाते हैँ, हरि दौड़ के आते हैँ,

जब भक्त बुलाते हैँ...


अर्जुन ने जब, उन्हें पुकारा, सार्थी बनके आ गए  ।

गीता का, उपदेश सुना के, उसका भरम मिटा गए ॥

वो ज्ञान सिखाते हैँ, वो भरम मिटाते हैँ,

वो गले लगाते हैँ, हरि दौड़ के आते हैँ,

जब भक्त बुलाते हैँ...


धन्ने ने जब, उन्हें पुकारा, ठाकुर बनके आ गए  ।

पत्थरों में, दर्श दिखा के, प्रेम का भोग लगा गए ॥

वो दर्श दिखाते हैँ, वो हल चलाते हैँ,

वो मान बढ़ाते हैँ, हरि दौड़ के आते हैँ,

जब भक्त बुलाते हैँ...


मित्र सुद्दामा, द्वारे आए, दौड़े दौड़े आ गए  ।

दो मुठी, सत्तू के बदले, उसका महल बना गए ॥

वो फ़र्ज़ निभाते हैँ, वो गले लगाते हैँ,

वो महल बनाते हैँ, हरि दौड़ के आते हैँ,

जब भक्त बुलाते हैँ...


जब भक्त बुलाते हैँ हरि दौड़ के आते हैँ (jab bhak bulate hain hari daud ke aate hain Lyrics in English)


jab bhakt bulaate hain


jab bhakt bulaate hain, hari daud ke aate hain.

vo to deen aur dukhiyon ko .

aa ke gale ka tel hai, hari daud ke aate hain,

jab bhakt bulaate hain...


dropadee ne jab, unhen bulaaya, daud-daudakar chale gae.

bharee sabha mein, chir pusht ke, usakee laaj bach gayee.

vo bahut pyaare hain, vo daya ke saagar hain,

chir vo baisiyaan hain, hari daud ke aate hain,

jab bhakt bulaate hain...


arjun ne jab, unhen bulaaya, saarthee banake aa gae.

geeta ka, upadesh sunae ka, usaka brahm kaha gaya.

vo gyaan sikhaate hain, vo gyaan sikhaate hain,

vo gale ke angoothe hain, hari daud ke aate hain,

jab bhakt bulaate hain...


dhanne ne jab, unhen bulaaya, thaakur banake aa gaye.

paint mein, darshan ke, prem ka bhog lag gaya .

vo darshan dikhaate hain, vo haal dikhaate hain,

vo man baazee hain, hari daud ke aate hain,

jab bhakt bulaate hain...


mitr sudaama, doore aaye, daude daude aaye.

do mutthee, sattoo ke badale, usaka mahal banaaya gaya .

vo fareez averi hain, vo gala ghantiyaan hain,

vo mahal todate hain, hari daud ke aate hain,

jab bhakt bulaate hain...


Ads Area