तुमने लाखों की किस्मत सँवारी अब संवरने की बारी हमारी लिरिक्स (Tumne Lakho Ki Kismat Sanwari Ab Sanwarane Ki Baari Hamari Lyrics in Hindi) - Khatu Shyam Bhajan - Bhaktilok

Deepak Kumar Bind

 

तुमने लाखों की किस्मत सँवारी अब संवरने की बारी हमारी लिरिक्स (Tumne Lakho Ki Kismat Sanwari Ab Sanwarane Ki Baari Hamari Lyrics in Hindi) - 


तुमने लाखों की किस्मत सँवारी

अब संवरने की बारी हमारी

तेरी चौखट पे जो भी झुका है

उसको दुनिया ने सर पे रखा है

तेरे रुतबे का क्या क्या सबब दे

इतनी ताकत नहीं है हमारी

तुमने लाखो की किस्मत सँवारी

अब संवरने की बारी हमारी।।


आस तेरी भरोसा तुम्ही पर है श्याम

तू ही मोहन कन्हैया तू ही तो है राम

दर पे आए बैगाने दीवाने बड़े

भर दो झोली खड़े है भगत ये तेरे

जब तलक तू सवारे ना बिगड़ी

तेरे दर से ना जाए सवाली

तुमने लाखो की किस्मत सँवारी

अब संवरने की बारी हमारी।।


हम सुधरना भी चाहे कहो क्या करे

तेरी मोह माया से बोल कितना लड़े

हम है नर तेरे जैसे नारायण नहीं

तुम अगर साथ दो होगी तेरी कहीं

रज़ा तेरी में हम तो है राज़ी

श्याम करना ना हमसे नाराजी

तुमने लाखो की किस्मत सँवारी

अब संवरने की बारी हमारी।।


तू जो चाहे तो बहरा भी सुनने लगे

लूला लंगड़ा पहाड़ों पे चढ़ने लगे

ज़िन्दगी मौत सबकुछ तेरे हाथ है

तुम अगर साथ हो तो फिर क्या बात है

तेरे रहमो करम पे पड़े है

जाने कब होगी रहमत तुम्हारी

तुमने लाखो की किस्मत सँवारी

अब संवरने की बारी हमारी।।


तुम हो दानी तो हम है भिखारी तेरे

तुम हो ठाकुर तो हम है पुजारी तेरे

‘जया’ भक्तो से क्यों इतना कतराते हो

ऐसा क्या माँगा देने में घबराते हो

खुदगर्जों ने अर्जी सुना दी

अब कृपा की है मर्जी तुम्हारी

तुमने लाखो की किस्मत सँवारी

अब संवरने की बारी हमारी।।


तुमने लाखों की किस्मत सँवारी

अब संवरने की बारी हमारी

तेरी चौखट पे जो भी झुका है

उसको दुनिया ने सर पे रखा है

तेरे रुतबे का क्या क्या सबब दे

इतनी ताकत नहीं है हमारी

तुमने लाखो की किस्मत सँवारी

अब संवरने की बारी हमारी ||



तुमने लाखों की किस्मत सँवारी अब संवरने की बारी हमारी लिरिक्स (Tumne Lakho Ki Kismat Sanwari Ab Sanwarane Ki Baari Hamari Lyrics in English) - 


teree laakhon kismat kee savaaree

ab sanvarane kee baaree hamaaree

takht pe jo bhee jhuka hai

duniya ne sar pe rakha hai

teree rutabe ka kya sabab de

itanee taakat nahin hai hamaaree

thaahi laakho kee kismat saanvaree

ab sanvarane kee baaree hamaaree।।


jaisa tera bharosa tum par hai shyaam

too hee mohan mitr too hee to hai raam

dar pe aaye baagaane deevaane bade

bhar do jholiyaan hai bhagat ye tera

jab talak too savaare na vaarisee

teree dar se na jae savaal

thaahi laakho kee kismat saanvaree

ab sanvarane kee baaree hamaaree।।


ham soorajana bhee bekaar kaho kya kare

tera moh maaya se bol

ham nar tere jaise naaraayan nahin

tum agar saath do hogee teree jagah

raza tere mein ham to hai raza

shyaam karana na naaraazagee

thaahi laakho kee kismat saanvaree

ab sanvarane kee baaree hamaaree।।


too jo chaahe to bura bhee sun le

loola langada maunt pe do laage

roshanee maut tumhaare haath hai

tum agar saath ho to phir kya baat hai

tere rahamo karam pe pade hai

jaane kab hogee rahamat vivaah

thaahi laakho kee kismat saanvaree

ab sanvarane kee baaree hamaaree।।


tum ho daanee to ham hain tumhaara

tum thaakur ho to ham pujaaree hain

jaya bhakton se kyon itana kataraate ho

aisa kya maanga dene mein dar lagata hai

khudagarjon ne savaal suna dee

ab krpaya kee hai nikolaee vivaah

thaahi laakho kee kismat saanvaree

ab sanvarane kee baaree hamaaree।।


teree laakhon kismat kee savaaree

ab sanvarane kee baaree hamaaree

takht pe jo bhee jhuka hai

duniya ne sar pe rakha hai

teree rutabe ka kya sabab de

itanee taakat nahin hai hamaaree

thaahi laakho kee kismat saanvaree

ab sanvarane kee baaree hamaaree।।


*** Singer : Jaya Kishori Ji ***



Post a Comment

0Comments

If you liked this post please do not forget to leave a comment. Thanks

Post a Comment (0)

#buttons=(Accept !) #days=(20)

Our website uses cookies to enhance your experience. Check Now
Accept !