Type Here to Get Search Results !

साईं कष्ट निवारण मंत्र (Sai Kasht Nivaran Mantra Lyrics in Hindi) - Sai Baba Mantra - Bhaktilok

 

साईं कष्ट निवारण मंत्र (Sai Kasht Nivaran Mantra Lyrics in Hindi) - 


कष्टो की काली छाया दुःख दैयी है |

जीवन में घोर उदासी लायी है |


संकट को तालो सै दुहाई है |

तेरे सिवा ना कोई मददगार है |


मेरे मन तेरी मूरत समायी है |

हर पल हर स्कन महिमा गाई है |


घर मेरे कष्टों की आँधी आई है |

आपने क्यू मेरी सुध भुलायी है |



तुम भोले नाथ हो दया निधान हो |

तुम हनुमान हो महा बलवान हो |


तुम्हीं हो राम और तुम्हीं श्याम हो |

सारे जगत में तुम सबसे महान हो |


तुम्हीं महाकाली तुम्हीं माँ शारदे |

कर्ता हु प्रार्थना भावे से तार दे |


तुम्ही मोहम्मद हो गरीब नवाज हो |

नानक की वाणी में ईसा के साथ हो |


तुम्ही दिगम्बर तुम्हीं कबीर हो |

हो बूढ़ा तुम्हीं हो और महावीर हो |



सारे जगत का तुम्हीं आधार हो |

निराकार भी और साकार हो |


करता हूँ वन्दना प्रेम विश्वास से |

सुनो साईं अल्लाह के वास्ते |


अधरो में मेरी नहीं मुस्कान है |

घर मेरा बनाने लगा स्मशान है |


राहेम नज़र करो उझादे विरान पे |

जिंदगी सवरेगी एक वरदान से |


पापा की धोप से तन लगा हारें |

आपका ये दस लगा पुकारने |


आपने सदा ही लाज बचायी है |

देर ना हो जाए मन शंकाए है |


धीरे धीरे धीरज ही खोता है |

मन में बस विश्वास ही रोता है |


मेरी कल्पना साकार कर दो |

सुनी जिंदगी में रंग भर दो |


धोते-धोते पापो का भार जिंदगी से |

मैं हार गया जिंदगी से |


नाथ अवगुण अब तो बिसारो |

कश्तो की लहर से आके उबरो |


करता हूं पाप मैं पापो की खान हूं |

ज्ञानी तुम ज्ञानेश्वर मैं अज्ञान हूं |


पापो की भूल में करता हूं पग-पग पर |

तार दो जीवन ये चरणों के धूल से |


तुमने उजाड़ा हुआ घर बसाया |

पानी से दीपक भी तुमने जलाया |


तुमने ही शिरडी को धाम बनाया |

छोटे गाँव में स्वर्ग सजाया |


कष्ट पाप श्राप उतारो |

प्रेण दया दृष्टि से निहारो |


आप का दस हू ऐसे ना तालिये |

गिरने लगा हू सै संभालिये |


सैजी बालक मैं अनाथ हु |

तेरे भरोसे रहता दिन रात हूँ |


जैसा भी हु | हू तो आपका |

कीजे निवारण मेरे संताप का |


तू है सवेरा और मैं रात हूँ |

मेल नहीं कोई फिर भी साथ हूँ |


साईं मुझसे मुख ना मोड़ो |

बीच मझदार अकेला ना छोड़ो |


आपके चरणों में आधार प्राण जय |

तेरे वचन मेरे गुरुसमान है |


आपकी राहो पे चलता दस है |

ख़ुशी नहीं कोई जीवन उदास है |


आंसू की धारा है डूबता किनारा |

जिंदगी में दर्द | नहीं गुजारा |


लगाया चमन तो फूल खिलाओ |

फूल खिले हैं तो खुशबू भी लाओ |


कर दो इशारा तो बात बन जाये |

जो किस्मत में नहीं वो मिल जाए |


बीता जमाना ये गाके फसाना |

सरहदे जिंदगी मौत का तराना |


देर हो गई है अँधेरे ना हो |

फ़िक्र मिले लेकिन फ़रेब ना हो |


देके तलो या दामन बचा लो |

हिलने लगी रहुणयी संभालो |


तेरे दम पर अल्लाह की शान है |

सूफी संतो के ये बयान है |


ग़रीब की झोली में भर दो ख़ज़ाना |

ज़माने के वाली करो ना बहाना |


डर के भिखारी हैं मोहताज हैं हम |

शहंशाहे आलम करो कुछ करम |


तेरे खज़ाने में अल्लाह की रहमत |

तुम सद्गुरु हो समर्थ |


आये तो धरती पे देने सहारा |

करने लगे क्यों हम से किनारा |


जब तक ये ब्रह्माण्ड रहेगा |

साईं तेरा नाम रहेगा |


चांद तारे तुम्हें पुकारेंगे |

जन्मोजन्म हम रास्ता निहारेंगे |


आत्मा बदलेगी छोले हजार |

हम मिलते रहेंगे हर बार |


आपके कदमो में बैठे रहेंगे |

दुखड़े दिल के कहते रहेंगे |


आपको मर्ज़ी है दो या ना दो |

हम तो कहेंगे दामन भी भर दो |


तुम हो दाता हम हैं भिखारी |

सुनते नहीं क्यों अरग हमारी |


अच्छा चलो एक बात बता दो |

क्या नहीं तुम्हारे पास बता दो |


जो नहीं देना है इंकार कर दो |

ख़तम ये आपस की तकरार कर दो |


लौट के खाली चला जाऊंगा |

फिर भी गन तेरे गाऊंगा |


जबतक काया है तबतक माया है |

इसी में दुखों का मूल समाया है |


सब कुछ जान के अंजान हूँ मैं |

अल्लाह की तू शान तेरी हूं शान मैं |


तेरा करम सदा सबपे रहेगा |

ये चक्र युग-युग चलता रहेगा |


जो प्राण गाएगा साई तेरो नाम |

उसको मिले मुक्ति पूछे परम धाम |


ये मंत्र जो प्राणि नित गाएंगे |

राहु केतु शनि निकट ना आयेंगे |


टाल जायेंगे संकट सारे |

घर में दस वास करे सुख सारे |


जो श्रद्धा से करेगा पथन |

हम पर देव सभी हो प्रसन्न |


रोग समुह नष्ट हो जायेंगे |

कष्ट निवारण मंत्र जो गाएंगे |


चिंता हारेगा निवारण जाप |

पल में डर हो सब पाप |


जो ये पुस्तक नित दिन बाचे |

लक्ष्मीजी घर उसके सदा बिराजे |


ज्ञान बुद्धि प्राणि वो पायेगा |

कष्ट निवारण में जो ध्यान देगा |


ये मंत्र भक्तो कमाल करेगा |

आये जो अनहोनी तो ताल देगा |


भूत-प्रेत भी रहेंगे दूर |

इस मंत्र में साईं शक्ति भरपुर है |


जपते रहे जो मंत्र अगर |

जादू टोना भी हो ब्यासर |


क्या मंत्र में सब गुण समाये |

ना हो भरोसा तो आजमाये |


ये मंत्र साई बचन ही जाणो |

स्वयं अमल कर सत्य पहचानो |


संशय ना लाना विश्वास जगाना |

ये मंत्र सुख का है खजाना |


क्या पुस्तक में साई का वास है |

साईं दया से ही लिख पाया दास |


अनंत कोटि ब्रह्माण्ड नायक

राजा धी राज योगी राज परा ब्रह्म

श्री सच्चिदानंद सद्गुरु साईं नाथ महाराज की जय ||



साईं कष्ट निवारण मंत्र (Sai Kasht Nivaran Mantra Lyrics in English) - 


kashto ki kaali chhaaya dukh daayi hai |

jeevan mein ghor udhaasi laayi hai |


sankat ko taalo sai duhaai hai |

tere sivaa naa koi sahaayi hai |


mere man teri murat samaayi hai |

har pal har skhan mahimaa gaayi hai |


ghar mere kashto ki aandhi aayi hai |

aapne kyu meri sudh bhulaayi hai |



tum bhole naath ho dayaa nidhaan ho |

tum hanumaan ho mahaa balwaan ho |


tumhi ho raam aur tumhi shyaam ho |

saare jagat mein tum sabse mahaan ho |


tumhi mahaakali tumhi maa shaarde |

kartaa hu praarthanaa bhave se taar de |


tumhi mohammad ho garib navaaz ho |

naanak ki vaani mein isaa ke saath ho |


tumhi digambar tumhi kabir ho |

ho budha tumhi aur mahaavir ho |


saare jagat ka tumhi aadhar ho |

niraakar bhi aur saakar ho |


kartaa hu vandanaa prem vishwaas se |

suno sai allaah ke vaaste |


adhro mein mere nahi muskaan hai |

ghar meraa banane lagaa smashaan hai |


rahem nazar karo ujhade viraan pe |

jindagi savregi ek vardaan se |


paapo ki dhop se tan lagaa haarne |

aapkaa ye daas lagaa pukaarne |


aapne sadaa hi laaj bachaae hai |

der naa ho jaaye man shankaaye hai |


dhire dhire dhiraj hi khotaa hai |

man mein basaa vishwaas hi rotaa hai |


meri kalpanaa saakaar kar do |

suni jindagi mein rang bhar do |


dhote-dhote paapo kaa bhaar jindagi se |

main haar gayaa jindagi se |


naath avgun ab to bisaaro |

kashto ki leher se aake ubaaro |


kartaa hu paap main paapo ki khaan hu |

gyaani tum gyneshwar main agyan hu |


kartaa hu pag-pag par paapo ki bhool main |

taar do jeevan ye charon ke dhul se |


tumne ujaadaa huaa ghar basaayaa |

paani se deepak bhi tumne jalaayaa |


tumne hi shirdi ko dhaam banaayaa |

chhote gaon mein swarg sajaayaa |


kasht paap shraap utaaro |

pren dayaa drishti se nihaaro |


aap kaa daas hu aise naa taaliye |

girne lagaa hu sai sambhaaliye |


saiji baalak main anaath hu |

tere bharose rehtaa din raat hu |


jaisaa bhi hu | hu to aapkaa |

kije nivaaran mere santaap kaa |


tu hai saveraa aur main raat hu |

mel nahi koi phir bhi saath hu |


sai mujse mukh naa modo |

bhich majdhaar akelaa naa chhodo |


aapke charno mein base praan jai |

tere vachan mere gurusamaan hai |


aapki raaho pe chaltaa daas hai |

khushi nahi koi jeevan udaas hai |


aansu ki dhaaraa hai dubataa kinaaraa |

jindagi mein dard | nahi gujaraa |


lagaayaa chaman to phool khilaao |

phool khile hain to khushbu bhi lao |


kar do ishaaraa to baat ban jaaye |

jo kismat mein nahi wo mil jaaye |


bitaa zamaanaa ye gaake fasaanaa |

sarhade jindagi mout kaa taraanaa |


der ho gayi hai andhere naa ho |

fikr mile lekin fareb naa ho |


deke talo yaa daaman bachaa lo |

hilne lagi rahunayee sambhaalo |


tere dam pe allah ki shaan hai |

sufi santo ke ye bayaan hai |


garib ki joli mein bhar do khazaanaa |

zamaane ke waali karo naa bahaanaa |


dar ke bhikhaari hain mohtaaj hai hum |

shahanshaahe aalam karo kuch karam |


tere khazaane mein allaah ki rehmat |

tum sadguru ho samarth |


aaye to dharti pe dene sahaaraa |

karne lage kyun hum se kinaaraa |


jab tak ye brahmaand rahegaa |

sai teraa naam rahegaa |


chaand taare tumhe pukaarenge |

janmojanam hum raastaa nihaarenge |


aatmaa badlegi chole hazaar |

hum milte rahenge har baar |


aapke kadamo mein baithe rahenge |

dukhde dil ke kehte rahenge |


aapke marze hai do yaa naa do |

hum to kahenge daaman bhi bhar do |


tum ho daataa hum hai bhikhaari |

sunate nahi kyun arag hamaari |


achhaa chalo ek baat bataa do |

kyaa nahin tumhaare paas bataa do |


jo nahin denaa hai inkaar kar do |

khatm ye aapas ki takraar kar do |


laut ke khaali chalaa jaaunga |

phir bhi gun tere gaaunga |


jabtak kaayaa hai tabtak maayaa hain |

isi mein dukhon kaa mul samaaya hain |


sab kuch jaan ke anjaan hu main |

allaah ki tu shaan teri hu shaan main |


tera karam sadaa sabpe rahegaa |

ye chakra yug-yug chaltaa rahegaa |


jo prani gaayega sai tero naam |

usko mile mukhti pohchhe param dhaam |


ye mantra jo prani nit gaayenge |

raahu ketu shani nikat naa aayenge |


tal jaayenge sankat saare |

ghar mein daas vaas kare sukh saare |


jo shraddhaa se karegaa pathan |

us par dev sabhi ho prasann |


rog samuhh nasht ho jaayenge |

kasht nivaaran mantra jo gaayenge |


chinta harega nivaran jaap |

pal mein dur ho sab paap |


jo ye pustak nit din baache |

laxmiji ghar uske sadaa biraaje |


gyaan buddhi praani vo paayega |

kasht nivaaran mein jo dhyaayega |


ye mantra bhakto kamaal karega |

aaye jo anhoni to taal dega |


bhoot-pret bhi rahenge door |

is mantra mein sai sakti bharpur |


japte rahe jo mantra agar |

jadu tonaa bhi ho beasar |


is mantra mein sab gun samaaye |

naa ho bharosaa to aajmaaye |


ye mantra sai bachan hi jaano |

swayam amal kar satya pahchhaano |


sanshay naa laanaa vishwaas jagaana |

ye mantra sukho kaa hai khazaana |


is pustak mein sai kaa vaas |

sai dayaa se hi likh paayaa daas |


anant koti brahmand nayak

raja dhi raj yogi raj para brahma

shri sachidanand sadguru sai nath maharaj ki jai ||


Ads Area