Type Here to Get Search Results !

साईं कष्ट निवारण मंत्र (Sai Kasht Nivaran Mantra Lyrics in Hindi) - Sai Mantra - Bhaktilok

 

साईं कष्ट निवारण मंत्र (Sai Kasht Nivaran Mantra Lyrics in Hindi) - 


सदगुरू साईं नाथ महाराज की जय

कष्टों की काली छाया दुखदायी है

जीवन में घोर उदासी लायी है ||


संकट को तालो साई दुहाई है

तेरे सिवा न कोई सहाई है ||


मेरे मन तेरी मूरत समाई है

हर पल हर शन महिमा गायी है


घर मेरे कष्टों की आंधी आई है

आपने क्यूँ मेरी सुध भुलाई है ||


तुम भोले नाथ हो दया निधान हो

तुम हनुमान हो तुम बलवान हो ||


तुम्ही राम और श्याम हो

सारे जग त में तुम सबसे महान हो ||


तुम्ही महाकाली तुम्ही माँ शारदे

करता हूँ प्राथना भव से तार दे ||


तुम्ही मोहमद्‌ हो गरीब नवाज़ हो

नानक की बानी में ईसा के साथ हो ||


तुम्ही द्गम्बर तुम्ही कबीर हो

हो बुध तुम्ही ओर महावीर हो ||


सारे जगत का तुम्ही आधार हो

निराकार भी और साकार हो ||


करता हूँ वंदना प्रेम विशवास से

सुनो साईं अल्लाह के वास्ते ||


अधरों पे मेरे नहीं मुस्कान है

घर मेरा बनने लगा शमशान है ||


रहम नज़र करो उन्हे वीरान पे

जिंदगी संवरेगी एक वरदान से ||


पापों की घुप से तन लगा हारने

आपका यह दास लगा पुकारने ||


आपने सदा ही लाज बचाई है

देर न हो जाये मन शंकाई है ||


धीरे-धीरे धीरज ही खोता है

मन में बसा विशवास ही रोता है ||


मेरी कल्पना साकार कर दो

सूनी जिंदगी में रंग भर दो ||


ढोते-ढोते पापों का भार जिंदगी से

में गया हार जिंदगी से ||


नाथ अवगुण अब तो बिसारो

कष्टों की लहर से आके उबारो ||


करता हूँ पाप में पापों की खान हूँ

ज्ञानी तुम ज्ञानेश्वर में अज्ञान हूँ ||


करता हूँ पग-पग पर पापों की भूल में

तार दो जीवन ये चरणों की धूल से ||


तुमने ऊजरा हुआ घर बसाया

पानी से दीपक भी तुमने जलाया ||


तुमने ही शिरडी को धाम बनाया

छोटे से गाँव में स्वर्ग सजाया ||


कष्ट पाप श्राप उतारो

प्रेम दया दृष्टि से निहारो ||


आपका दास हूँ ऐसे न टालिए

गिरने लगा हूँ साईं संभालिये ||


साईजी बालक में अनाथ हूँ

तेरे भरोसे रहता दिन रात हूँ ||


जैसा भी हूँ  हँ तो आपका

कीजे निवारण मेरे संताप का ||


तू है सवेरा और में रात हूँ

मेल नहीं कोई फिर भी साथ हूँ


साईं मुझसे मुख न मोड़ो

बीच मझधार अकेला न छोड़ो ||


आपके चरणों में बसे प्राण हे

तेरे वचन मेरे गुरु समान है ||


आपकी राहों पे चलता दास है

ख़ुशी नहीं कोई जीवन उदास है ||


आंसू की धारा में डूबता किनारा

जिंदगी में दर्द नहीं गुजारा ||


लगाया चमन तो फूल खिलायो

फूल खिले है तो खुशबू भी लायो ||


कर दो इशारा तो बात बन जाये

जो किस्मत में नहीं वो मिल जाये ||


बीता ज़माना यह गाके फ़साना

सरहदे ज़िन्दगी मौत तराना ||


देर तो हो गयी है अंधेर ना हो

फ़िक मिले लकिन फरेब ना हो ||


देके टालो या दामन बचा लो

हिलने लगी रहनुमाई संभालो ||


तेरे दम पे अल्लाह की शान है

सूफी संतो का ये बयान है ||


गरीबों की झोली में भर दो खजाना

ज़माने के वली करो ना बहाना ||


दर के भिखारी है मोहताज है हम

शंहंशाये आलम करो कुछ करम ||


तेरे खजाने में अल्लाह की रहमत

तुम सदगुरू साईं हो समरथ ||


आये हो घरती पे देने सहारा

करने लगे क्यूँ हमसे किनारा ||


जब तक ये ब्रह्मांड रहेगा

साईं तेरा नाम रहेगा ||


चाँद सितारे तुम्हे पुकारेंगे

जन्मोजनम हम रास्ता निहारेंगे ||


आत्मा बदलेगी चोले हज़ार

हम मिलते रहेंगे बारम्बार ||


आपके कदमो में बेठे रहेंगे

दुखड़े दिल के कहते रहेंगे ||


आपकी मर्जी है दो या ना दो

हम तो कहेंगे दामन ही भर दो ||


तुम हो दाता हम है भिखारी

सुनते नहीं क्यूँ अर्ज़ हमारी ||


अच्छा चलो एक बात बता दो

क्या नहीं तुम्हारे पास बता दो ||


जो नहीं देना है इनकार कर दो

ख़तम ये आपस की तकरार कर दो ||


लौट के खाली चला जायूँगा

फिर भी गुण तेरे गायूँगा ||


जब तक काया है तब तक माया है

इसी में दुखो का मूल समाया है ||


सबकुछ जान के अनजान हूँ में

अल्लाह की तू शान तेरी शान हूँ में ||


तेरा करम सदा सब पे रहेगा

ये चक्र युग-युग चलता रहेगा ||


जो प्राणी गायेगा साईं तेरा नाम

उसको मुक्ति मिले पहुंचे परम धाम ||


ये मंत्र जो प्राणी नित दिन गायेंगे

राहू  केतु  शनि निकट ना आयेंगे ||


टाल जायेंगे संकट सारे

घर में वास करें सुख सारे ||


जो श्रधा से करेगा पठन

उस पर देव सभी हो प्रस्सन ||


रोग समूल नष्ट हो जायेंगे

कष्ट निवारण मंत्र जो गायेंगे ||


चिंता हरेगा निवारण जाप

पल में दूर हो सब पाप ||


जो ये पुस्तक नित दिन बांचे

श्री लक्ष्मीजी घर उसके सदा विराजे ||


ज्ञान बुधि प्राणी वो पायेगा

कष्ट निवारण मंत्र जो घयायेगा ||


ये मंत्र भक्तों कमाल करेगा

आई जो अनहोनी तो टाल देगा ||


भूत-प्रेत भी रहेंगे दूर

इस मंत्र में साईं शक्ति भरपूर ||


जपते रहे जो मंत्र अगर

जादू-टोना भी हो बेअसर ||


इस मंत्र में सब गुण समाये

ना हो भरोसा तो आजमाए ||


ये मंत्र साई वचन ही जानो

सवयं अमल कर सत्य पहचानो ||


संशय ना लाना विशवास जगाना

ये मंत्र सुखों का है खज़ाना ||


इस पुस्तक में साईं का वास

जय साईं श्री साईं जय जय साईं ||


साईं कष्ट निवारण मंत्र (Sai Kasht Nivaran Mantra Lyrics in English) -


sadaguru saeen naath mahaaraaj kee jay

kashton kee kaalee chhaaya duhkhad hai

jeevan mein ghor udaasee laayee hai ||


sankat ko talo saee duhaee hai

tera siva na koee saha hai ||


mere man tera moorat samaee hai

har pal har shaan mahima gaayee hai


ghar mere kashton ka toophaan hai

tumane kyoon meree sudha bharee hai ||


tum bhole naath ho daya nidhaan ho

tum hanumaan ho tum balavaan ho ||


tumheen raam aur shyaam ho

saaree jag mein tum sabase mahaan ho ||


tumheen mahaakaalee tumheen maan shaarade

main praarthana bhav se taar de ||


tumhee mohammad ho gareeb navaaz ho

naanak kee vaanee mein eesa ke saath ho ||


tumheen dagambarhee tumheen kabeer ho

ho budh tumhee or mahaaveer ho ||


saaree duniya ka tumhaara aadhaar ho

niraakaar bhee aur saakaar ho ||


main vandana prem vishvaas se karata hoon

suno saeen allaah ke vaaste ||


adharon pe mere nahin muskaan hai

ghar mera ban gaya shamashaan hai ||


raham dekh karo heero veeraan pe

jeevan sanvaregee ek vaibhav se ||


paapon kee jhapakee se tan laga haran

aapaka ye daas laga kolane ||


tumane sada hee laaj bachaee hai

der na ho jae man par bharosa hai ||


dheere-dheere-dheere-dheere dheeraj hee khota hai

man mein basa vishvaas hee rota hai ||


meree kalpana saakaar kar do

soonee jindagee mein rang bhar do ||


dhote-dhote paapon ka bhaar jeevan se

haar gayee jindagee se ||


naath avagun ab to bisaaro

kashton kee lahar se aake ubaro ||


main paapon mein paapon kee khaan hoon

gyaanee tum gyaaneshvar mein agyaanee hoon ||


main paapon kee bhool mein paig-paig karata hoon

taar do jeevan ye stej kee dhool se ||


tum ujara hua ghar basaaya

paanee se deepak bhee jalaaya ||


tumane hee shiradee ko dhaam banaaya

chhote se gaanv mein svarg ||


kasht paap shraap udghaato

prem daya drshti se nihaaro ||


aapaka daas hoon aise na talie

de diya gaya hoon saeen salaee ||


saeejee baalak mein anaath hoon

teree stetament din raat hoon ||


jaisa bhee hoon haan to aapaka

keeje chot mere santaap ka ||


too hai savera aur mein raat hoon

mel nahin phir bhee saath hoon


saeen mere mukh na ghumao

beech manjhadhaar akele na chhodo ||


aapake stej mein basate praan he

tera vachan mere guru samaan hai ||


aapakee raahon peve daas hai

khushee nahin koee jeevan udaas hai ||


baadh kee dhaara mein doobata hua kinaara

jindagee mein dard nahin gujaraata ||


ye chaman to phool khilaayo

phool khile hain to komal bhee laayo ||


kar do sanket to baat ban jaaye

jo kismat mein nahin vo mil jaaye ||


beeta jamaana yah gaake fasaana

sarahade roshanee maut taraana ||


der to ho gaee hai andher na ho

theek mile lekin fareb na ho ||


deke taalo ya daaman bacha lo

hilane lagee rahanumaee sahayogo ||


tere dam pe allaah kee shaan hai

soophee santo ka ye bayaan hai ||


gareebon kee jholee mein bhar do khajaane

jamaane ke valee karo na chhodana ||


dar ke bhaee hain mohataaj hain ham

shanhashaaye aalam karo kuchh karam ||


tere allaah mein allaah kee rahamat

tum sadaguru saeen ho samarath ||


aayen ho gharee pe dete sahaara

karane lage kyoon hamaare ophis ||


jab tak ye brahmaand rahega

saeen tere naam rahega ||


chaand sitaare tumhen bulaenge

janmojanm ham door rahenge ||


aatma badalegee chhole hajaar

ham milate rahenge baarambaar ||


aapake stepo mein bethe rahenge

dukhade dil ke kahate hain ||


aapaka mastishk do ya na do hai

ham to aadarsh daaman hee bhar do ||


tum ho daata ham hai bhikhaarin

uttar nahin kyoon arz hamaaree ||


achchha chalo ek baat batao do

kya nahin faif paas batao do ||


jo asveekaary nahin hai kar do

khatam ye un kee takaraar kar do ||


laut ke khaalee chala gaya

phir bhee gun tere gaayelen ||


jab tak kaaya hai tab tak maaya hai

isee mein dukho ka mool samaaya hai ||


chhotee see jaan ke ananya hoon mein

allaah kee too shaan tera shaan hoon ||


tera karam sada sab pe rahega

ye chakrayug-yugarahenge ||


jo gaayega saeen tera naam

mukti mile amerika param dhaam ||


ye mantr jo raakshas nit din gaega

raahu ketu shani nikat na aayenge ||


talan sankat saare

ghar mein vaas karen sukh saare ||


jo shraddha se padhe

us par dev sab ho prasann ||


rog moolatah nasht ho gaya

kasht nivaaran mantr jo gaenge ||


chinta haarega sarvis jaap

pal mein door ho sab paap ||


jo ye kitaab nit din baanche

shree lakshmeejee ghar sada viraaje ||


gyaan buddhi jeev vo piega

kasht nivaaran mantr jo ghaayega ||


ye mantr bhakt kaam aaega

ai jo anahonee to taal dega ||


bhoot-pret bhee door

is mantr mein saeen shakti shakti ||


japate rahe jo mantr agar

jaadoo tona bhee ho gaya ||


is mantr mein sab gun samaaye

na ho bharosemand to bharosemand ||


ye mantr saee vachan hee jaano

saavayan amal kar saty pahachaano ||


sanshay na laana vishvaas jagaana

sukhon ka hai ye mantr ||


is pustak mein saeen ka vaas

jay saeen shree saeen jay jay saeen ||





Ads Area