केसरिया केसरिया आज हमारो मन (Kesariya Kesariya Aaj Hamaro Man Lyrics in Hindi) - Jain Bhajan - Bhaktilok

Deepak Kumar Bind

 

केसरिया केसरिया आज हमारो मन (Kesariya Kesariya Aaj Hamaro Man Lyrics in Hindi) - Jain Bhajan:-

केसरिया केसरिया आज हमारो मन (Kesariya Kesariya Aaj Hamaro Man Lyrics in Hindi) - Jain Bhajan - Bhaktilok


केसरिया केसरिया आज हमारो मन (Kesariya Kesariya Aaj Hamaro Man Lyrics in Hindi) - 


केसरिया, केसरिया, 

आज हमारो मन

केसरिया, केसरिया, 

आज हमारो मन केसरिया ||


तन केसरिया, मन केसरिया, 

पूजा के चावल केसरिया,

भक्ति में हम सब केसरिया ||


हम केसरिया, तुम केसरिया, 

अष्ट द्रव्य सब हैं केसरिया,

मंदिर की है ध्वजा केसरिया, 

भक्ति में हम सब केसरिया ||


इन्द्र केसरिया, इन्द्राणि केसरिया, 

सिद्धों की पूजन केसरिया,

पूजा के सब भाव केसरिया, 

भक्ति में हम सब केसरिया ||


वीर प्रभु की वाणी केसरिया, 

अहिंसा परमो धर्म केसरिया,

जीयो जीने दो केसरिया, 

भक्ति में हम सब केसरिया ||


पीछी केसरिया, कमण्डल 

केसरिया,दिगम्बर साधु भी केसरिया

शत शत वंदन है केसरिया, 

भक्ति में हम सब केसरिया ||


स्वर्णिम रथ देखो केसरिया, 

स्वर्ण वरण प्रभुजी केसरिया,

छत्र चंवर ध्वज सब केसरिया, 

भक्ति में हम सब केसरिया ||


जीवन है पानी की बूँद 

जैन भजन लिरिक्स


जीवन है पानी की बूँद कब मिट जाए रे

होनी अनहोनी कब क्या घाट जाए रे


जितना भी कर जाओगे, 

उतना ही फल पाओगे

करनी जो कर जाओगे, वै

सा ही फल पाओगे

नीम के तरु में नहीं आम दिखाए रे

जीवन है पानी की बूँद…


चाँद दिनों का जीवन है, 

इसमें देखो सुख काम है

जनम सभी को मालूम है, 

लेकिन मृत्यु से ग़ाफ़िल है

जाने कब तन से पंक्षी उड़ जाए रे

जीवन है पानी की बूँद…


किस को मने अपना है, 

अपना भी तो सपना है

जिसके लिए माया 

जोड़ी क्या वो तेरा अपना है

तेरा हो बेटा तुझे आग लगाए रे

जीवन है पानी की बूँद…


गुरु जिस को छू लेते हैं 

वो कुंदन बन जाता है

तब तक सुलगता दावानल, 

वो सावन बन जाता है

आतंक का लोहा 

अब पारस कर ले रे

जीवन है पानी की बूँद…||


केसरिया केसरिया आज हमारो मन (Kesariya Kesariya Aaj Hamaro Man Lyrics in English) - 


kesariya, kesariya,

aaj hamaare man

kesariya, kesariya,

aaj hamaaro man kesariya ||


tan kesariya, man kesariya,

pooja ke chaaval kesariya,

bhakti mein ham sab kesariya ||


ham kesariya, tum kesariya,

asht dravy sab hain kesariya,

mandir ka hai jhanda kesariya,

bhakti mein ham sab kesariya ||


indraani kesariya, indraani kesariya,

siddhon kee pooja kesariya,

pooja ke sab bhaav kesariya,

bhakti mein ham sab kesariya ||


veer prabhu kee vaanee kesariya,

ahinsa paramo dharm kesariya,

jiyo jiyo do kesariya,

bhakti mein ham sab kesariya ||


peechhe kesariya, mandal

kesariya, digambar saadhu bhee kesariya

shat shat vandan hai kesariya,

bhakti mein ham sab kesariya ||


svarnim rath dekho kesariya,

svarn varn prabhujee kesariya,

chhatr chanvar dhvaj sab kesariya,

bhakti mein ham sab kesariya ||


jindagee hai paanee kee saugaat

jain bhajan liriks


jindagee hai paanee kee boonde kab mit jaaye re

hon anahonee kab kya ghaat jae re


aakharee bhee kariye dosto,

asalee hee phal paoge

karana jo kar jaapaan, vai

sa hee phal paoge

neem ke taru mein nahin aam re

jindagee hai paanee kee boond...


chaand dinon ka jeevan hai,

dekho isamen sukh kaam hai

janm sabhee ko manaaya jaata hai,

lekin maut se gaafil hai

jaane kab tan se pankshee ud jae re

jindagee hai paanee kee boond...


kisako maane apana hai,

apana bhee to sapana hai

jisake lie maaya

jodee kya vo tera apana hai

tera ho beta aagplaant re

jindagee hai paanee kee boond...


guru jinako chhoo lete hain

vo sitaaraant ban jaata hai

tab tak samaadhaan daavaanal,

vo saavan ban jaata hai

aatank ka loha

ab paars kar le re

jindagee hai paanee kee saugaat...||



Post a Comment

0Comments

If you liked this post please do not forget to leave a comment. Thanks

Post a Comment (0)

#buttons=(Accept !) #days=(20)

Our website uses cookies to enhance your experience. Check Now
Accept !