Type Here to Get Search Results !

आल्हा श्री गणेश जी की (Aalha Shree Ganesh Ji Ki Lyrics In Hindi) - by Sanjo Baghel Ganesh Bhajan - Bhaktilok

 

आल्हा श्री गणेश जी की (Aalha Shree Ganesh Ji Ki Lyrics in Hindi) - 


जय जय हो नाथ गणेशा संजो तुमको रही मनाये

दे दो इतना ज्ञान गजानन हमसे भूल नहीं हो जाए

हंस वाहिनी मात सरस्वती सदा विराजो कंठ पे आये

गणपति का गुणगान करूँ मै जिनकी पूजा सबको भाये

आदि गणेश आपके आगे सारे देवता शीश नवाये

ब्रह्मा विष्णु और मुनिवर शरण तुम्हारी चल के आये

कष्ट कलेशो को हरते हो भक्तो के तुम सदा सहाये

श्रद्धा पूर्वक जो कोई पूजे प्रभु तेरे ये पावन पांव

श्रद्धा पूर्वक जो कोई पूजे


श्रद्धा पूर्वक जो कोई पूजे प्रभु तेरे ये पावन पांव

पुण्य प्राप्त होते है उसको सारे पाप नष्ट हो जाए

सबसे पहले शुभ कार्यो में तेरी पूजा सब करवाए

बुधवार के दिन भगतगण श्री गणेश का व्रत रखाये

विघ्न विनाशक गणपति बाबा भक्तो की पीड़ा हर जाए

भादो मास की तिथि चतुर्थी गणेश जयंती भक्त मनाये

११ दिन तेरी करते पूजा लड्डुवन से तेरा भोग लगाए

भजन कीर्तन करे तुम्हारा शाम को तेरी ज्योत जलाये

श्री गणेश अपने भक्तो पर देते है कृपा बरसाए

श्री गणेश अपने भक्तो पर


श्री गणेश अपने भक्तो पर देते है कृपा बरसाए

एक भक्त की सुनो कहानी बुढ़िया रानी की बतलाये

रहती थी वो एक गांव में अपने एक बहु के साथ

करे झोपडी में ही बसेरा इतने बुरे घर के हालात

भीगे बुढ़िया टूटे झोपड़िया जब भी आती थी बरसात

दुखी देखकर वो अपने को प्रभु को याद करे दिन रात

प्रभु से वो करती फरियादें दुरो करो लाचारी नाथ

इसी गांव में आठ साल का गया एक अनजाना आये

हाथ में दूध भरी चम्मच थी जरा सी चावल मुट्ठी दवाये

हाथ में दूध भरी चम्मच थी


हाथ में दूध भरी चम्मच थी जरा सी चावल मुट्ठी दवाये

घूम घूमकर गली गली में सबसे यही गुहार लगाए

भूख लगी है मुझको भारी कोई तो दे मेरी खीर पकाये

फ़टे पुराने कपडे पहने द्वार द्वार आवाज लगाए

थोड़ा दूध देख महिलाये लड़के को पागल बतलाये

कोई सुने ना उसकी विनती उलटा देती उसे भगाये

लेके घूमे पसना जा की मति गई बौराये

भूखा प्यासा फिरे वो लड़का हुआ निराश गया दुखिआए

निकल गया वो गांव से बाहर उसे झोपड़ी गई दिखाए

 निकल गया वो गांव से बाहर


निकल गया वो गांव से बाहर उसे झोपड़ी गई दिखाए

जिसमे बैठी थी वो बुढ़िया पास उसकी पंहुचा जाए

बोला लड़का उस बुढ़िया से मुझे भूख माँ रही सताए

ये लो दूध और ये लो चावल मेरे लिए दो खीर बनाये

बुढ़िया ने जब देखा लड़का उसको तरस गए था आये

लेकिन वो क्या करे बेचारी दूध एक चम्मच दिखलाये

बोली बुढ़िया उस बच्चे से खीर तेरी कैसे बन पाए

थोड़े चावल है पुड़िया में थोड़ा दूध रहा दिखलाये

बोला बेटा जो भी है माँ कोशिश करके देख ले जाए

बोला बेटा जो भी है माँ


बोला बेटा जो भी है माँ कोशिश करके देख ले जाए

 जो भी खीर पकेगी मैया उसी से लूंगा भूख मिटाये

सुनकर बात उस लड़के की बुढ़िया के आंसू आ जाए

तब एक छोटे से बर्तन में दीन्हि उसने खीर बनाये

जैसे ही खीर परोसी उसको पूरी थाली भर गई जाए

किन्तु खीर की धार ना टूटी और भी बर्तन भर गए जाए

घर के सारे बर्तन भर गए छोटे बड़े बचा कुछ नाये

खीर खत्म ना हुयी अभी भी तब लड़का बोला है माये

बड़े बड़े बर्तन ले आओ आस पडोसी के घर जाए

बड़े बड़े बर्तन ले आओ


बड़े बड़े बर्तन ले आओ आस पडोसी के घर जाए

तब बुढ़िया ने उसी गांव से लीन्हे बड़े पात्र मंगवाये

खीर से भर गए तभी लबालब तब लड़का बोला है माये

सारे गांव को न्योता दे दो भंडारा अब देयो कराये

बुढ़िया ने फिर सारे गांव को न्योता दीन्हा था भिजवाए

सुनकर बुढ़िया का वो न्योता नर नारी सब हंसी उड़ाए

खुद खाने के पड़े है लाले बुढ़िया सबको खीर खिलाये

शायद बुढ़िया भई बाबरिया या फिर गई है वो पगलाए

लोग इक्क्ठे भये गांव के सलाह मस्वारा रहे बनाये

 लोग इक्क्ठे भये गांव के


लोग इक्क्ठे भये गांव के सलाह मस्वारा रहे बनाये

कोई कहे चलो तो भैया बुढ़िया घर भंडारा खाये

कहे कोई जाने से पहले घर पर ही भोजन खा जाए

लौट के भी खाना खा लेंगे पहले देखे वहां पे जाए

सभी एकजुट हो कर भैया पहुंचे बुढ़िया के घर जाए

भीड़ इक्क्ठी भई देखकर उसकी बहु गई घबराये

खीर पारस लीन्ही थाली में कही खीर सब निपट ना जाए

श्री गणेश का नाम सुमिर कर चुपके खीर गई वो खाये

बैठ गए सब लोग लाइन में शुरू हुआ भंडारा जाए

बैठ गए सब का वहां पर


बैठ गए सब लोग लाइन में शुरू हुआ भंडारा जाए

पुरे गांव के सब नर नारी गए प्रेम से भोजन पाए

जो घर भोजन कर के आया वही लोग रहे पछताए

भंडारा सब लोग खा गए फिर बच्चे को लिया बुलाये

बेटा अब तुम भी कुछ खा लो लेयो अपनी भूख मिटाये

तब बोला बच्चा बुढ़िया से मैंने तो लिया भोग लगाए

अब तुम खा लो प्यारी मैया बढ़िया खीर बनी मनभाये

तुमने कब खा ली है बैठा तुम्हे तो खाते देखा नाये

बोला बेटा सबसे पहले लिया था मैंने भोग लगाए

बोला बेटा सबसे पहले


बोला बेटा सबसे पहले लिया था मैंने भोग लगाए

जब चुपके से तेरी बहु ने खीर ली पहले ही खाये

लेकर नाम गणेशा पहले उसने मुझको दी चटाये

तभी भूख भुझ गई मेरी माँ अब तुम भोजन कर लो आये

बच्चे ने अपने हाथो से बुढ़िया को दी खीर खिलाये

तब बुढ़िया बोली बच्चे से आँखों से आंसू बरसाए

क्या बेटा तुम श्री गणेश हो इस बुढ़िया को देयो बताये

तब वो लड़का श्री गणेश के रूप में प्रगट हो गया जाए

पांव पकड़ लीन्हे बुढ़िया ने रहे नाथ कृपा बरसाए

पांव पकड़ लीन्हे बुढ़िया ने


पांव पकड़ लीन्हे बुढ़िया ने रहे नाथ कृपा बरसाए

अपना एक पैर कुटिया में श्री गणेश ने दिया छपाये

हो गए अंतर्ध्यान प्रभु वो बुढ़िया देखत ही रह जाए

टूटी हुयी झोपडी उसकी बदल गई महलो में जाए

धन दौलत के भंडारे है नौकर चाकर शीश नवाये

विनय हमारी सुनो विनायक संजो के तुम बनो सहाये

जैसी कृपा करी बुढ़िया पर वैसी कृपा देयो बरसाए

रमेश भैया ने लिखा है आल्हा श्री गणेश को शीश नवाये

मनोकमना राजेंद्र की पूरी करो गजानन आये


आल्हा श्री गणेश जी की (Aalha Shree Ganesh Ji Ki Lyrics in English) - 


jay jay ho naath ganesh sanjo tumhen rahee manaaye
de do itana gyaan gajaanan hamen bhool nahin ho jae
hans kanth maata sarasvatee sada viraajo kanth pe aaye
ganapati ka gunagaan karoon maiprotok pooja esosiet bhaaye
aadi ganesh aapake aage saare devata sheesh navaaye
brahma vishnu aur munivar sharan chal ke aayen
kasht kalesho ko harate ho bhakton ke tumhen sada sahaayata mile
shraddha poorvak jo koee poojen prabhu tera ye pavitr chihn
shraddha ambe jo koee pooja

shraddha poorvak jo koee poojen prabhu tera ye pavitr chihn
puny praapt hota hai saare paap nasht ho jaate hain
sabase pahale shubh utsav mein teree pooja sab shaamil
ravivaar ke din bhagatagan shree ganesh ka vrat rakha jaata hai
vighn vinaashak ganapati baaba bhakton kee peeda har jae
bhaado maas kee tithi chaturthee ganesh jayantee bhakt manaaye
11 din teree pooja laddoovan se tera blog plot
bhajan keertan kare bhaee shaam ko teree jyot jalaaye
shree ganesh apane bhakton par krpa karen
shree ganesh apane bhakton par

shree ganesh apane bhakton par krpa karen
ek bhakt kee suno kahaanee budhiya raanee kee bataayen
ve ek gaanv mein apane ek bahu ke saath rahate the
kare jhopadee mein hee basera teen avashesh ghar ke haalaat
bade buddhe jhopade jab bhee aatee thee chaandee
dukhee dekhakar vo apane prabhu ko yaad kare din raat
prabhu se vo karate hain phariyaaden duro karo laachaaree naath
isee gaanv mein aath saal ka ek anaaya aaya
haath mein doodh bhaaree maatra thee jara see chaaval yookrenee davaaye
haath mein doodh bharee thee

haath mein doodh bhaaree maatra thee jara see chaaval yookrenee davaaye
ghoom ghoomakar galee galee mein sabase yahee paudhaaropan
bhookh lagee hai mujhako bhaaree to de meree kheer pakaaye
phate puraane kapade pyaare daravaaje kee aavaaj
chhote doodh dekho mahilaaye ladake ko paagal bataaye
koee sune na usakee vinatee ulata kaarobaar use bhagaaye
leke ghoomate pasana ja kee mati gai bauraaye
bhookha pyaasa phire vo ladaka niraash ho gaya dukhiyae
nikal gaya vo gaanv se baahar usaka dhaancha khada ho gaya
 vo gaanv se baahar nikal gaya

nikal gaya vo gaanv se baahar usaka dhaancha khada ho gaya
any vikalp tha vo budhiya ke paas usaka panhucha jae
bola ladaka us budhiya se mujhe bhookh maan rahee satae
ye lo doodh aur ye lo chaaval mere lie do banaaye
budhiya ne jab ladake ko dekha to taare chale gae the
lekin vo kya kare doodh ek jaisa
budhiya us bachche se khed teree kaise banee
mota chaaval hai pudiya mein thoda doodh dikhalaaye
bola beta jo bhee maan kee koshish karake dekh le jae
bola beta jo maan bhee hai

bola beta jo bhee maan kee koshish karake dekh le jae
 jo bhee khada hoga maiya usee se loonga bhookh mitaaye
aashchary kee baat hai ki ladake kee budhiya ke phool aa jae
tab ek chhote se poetree mein deenhee usane khed banaaye
jaise hee khedagesinset pooree tarah se bhar gaee
bore khed kee dhaar na khand aur poshaahaar bhee bhar gaye jaaye
ghar ke saare taalaab bhar gae chhote bade bachcha kuchh nae
khed khatm na hua abhee bhee tab ladaka bola hai maee
bade bade podosee le aao aas pados ke ghar jaaye
bade bade pothe le aao

bade bade podosee le aao aas pados ke ghar jaaye
tab budhiya ne ek hee gaanv se leenhe bade bartan becheye
khed se bhar gae tabhee labaalab tab ladaka bola hai maaye
saare gaanv ko nyota de do bhandaara ab deyo dijain
budhiya ne phir saare gaanv ko nyota deena tha
suno budhiya ka vo nyota nar naaree sab hansee udae
khud khaane ke padhe hai laale budhiya kisaan kheer khilaaye
shaayad buddha bhaee baabariya ya phir gaya hai vo pagalae
log ikaththa bhaye gaanv ke salaah masvaara rahe banaayen
 log ikaththe bhaye gaanv ke

log ikaththa bhaye gaanv ke salaah masvaara rahe banaayen
koee kahe chalo to bhaiya budhiya ghar bhandaara khaaye
kahe koee jaane se pahale ghar par hee khaana kha jae
vaapasee ke lie bhee khaana khaen pahale vahaan pe jaen
sabhee ekajut ho kar bhaeesaahab budhiya ke ghar jaaye
bheed ikkathee bhaee ko dekhakar usakee bahuroopiya ghabara gaee
khed paars leenhee thaalee mein khed khed sab nayan na jae
shree ganesh ka naam sumir kar chupake se dekha gaya vo khaaye
baith gae sab log lain mein shuroo hua bhandaara jae
sab vahaan chale gaye

baith gae sab log lain mein shuroo hua bhandaara jae
poore gaanv kee sab nar naaree gaee prem se khaana mila
jo ghar khaana kar ke aaya vahee log rahe pachhatae
bhandaara sab log kha gae phir bachche ko le gae
beta ab tum bhee kuchh kha loyo apanee bhookh badhao
tab bola bachcha budhiya se mainne to liya blog
ab tum kha lo pyaaree maiya gret khed banee manabhaaye
tumane kab kha lee hai tumhaare saath to nazar nahin aaye
bola beta sabase pahale mainne blogaplot liya tha
bola beta sabase pahale

bola beta sabase pahale mainne blogaplot liya tha
jab achaanak se teree bahu ne khed lee pahale hee khaaye
leke naam ganesha pahale use mujhe deeye chataaye
sabase jyaada bhookh lagee meree maan ab tum khaana kar lo aaye
bachche ne apane haatho se budhiya ko dee kheer khilaaye
tab budhiya bolee bachche kee aankhon se phool baarae
kya beta tum shree ganesh ho is budhiya ko batao
tab vo ladaka shree ganesh ke roop mein pragat ho gaya
pakad pakad leenhe budhiya ne rahe naath krpa barasae
pakad pakad leenhe budhiya ne

pakad pakad leenhe budhiya ne rahe naath krpa barasae
apanee ek pair kutiya mein shree ganesh ne diya chhapaaye
ho gae antardhyaan prabhu vo budhiya dekhat hee rah jae
usakee jagah kachchee kachchee jhopadee mahalo mein chalee gaee
dhan portapholiyo ke bhandaare hai naukar chaakar sheeshe navaaye
vinatee hamaaree suno vinaayak sanjo ke tum bano madade
jaise krpa karee budhiya par krpa krpa deyo barasaate
ramesh bhaiya ne likha hai aalha shree ganesh ko sheeshe navaaye
manokamana raajakumaar kee pooree karo gajaanan aay


*** Singer - Sanjo Baghel***


Ads Area