Type Here to Get Search Results !

सोने वाले जाग जा संसार मुसाफिर खाना है लिरिक्स (Sone Wale Jaag Ja Sansar Musafir Khana Hai Lyrics in Hindi) - Vividh Bhajan - Bhaktilok


सोने वाले जाग जा संसार मुसाफिर खाना है लिरिक्स  (Sone Wale Jaag Ja Sansar Musafir Khana Hai Lyrics in Hindi) -


किस धुन में बैठा बावरे

किस मद में मस्ताना है

सोने वाले जाग जा

संसार मुसाफिर खाना है

हरी बोल


क्या लेकर के आया था जग में

फिर क्या लेकर जाएगा

मुठी बांधे आया जग में

हाथ पसारे जाना है 

सोने वाले जाग जा

संसार मुसाफिर खाना है


कोई आज गया कोई कल गया

कोई चंद रोज में जाएगा

जिसकी घर से निकल गया पंछी

उस घर में फिर नहीं आना है

सोने वाले जाग जा

संसार मुसाफिर खाना है


सूत मात पिता बांधव नारी

धन धान यही रह जायेगा

यह चंद रोज की यारी है

फिर अपना कौन बेगाना है

सोने वाले जाग जा

संसार मुसाफिर खाना है


कहे देवेंद्र हरी नाम जपो

फिर ऐसा समय ना आएगा

पाकर कंचन सी काया को

हाथ मसल पछताना है

सोने वाले जाग जा

संसार मुसाफिर खाना है


सोने वाले जाग जा संसार मुसाफिर खाना है लिरिक्स  (Sone Wale Jaag Ja Sansar Musafir Khana Hai Lyrics in English) - 


kis dhun mein toophaan baavalee

kis paagal mein mastaana hai

sone vaale jaag ja

duniya musaaphir khaana hai

haree bol


kya lekar ke aaya tha jag mein

phir kya lekar jaayenge

mutthee baandhe aaya jag mein

haath pasaare jaana hai

sone vaale jaag ja

duniya musaaphir khaana hai


koee aaj gaya koee kal gaya

koee chand roz mein

anuyaayee ghar se nikal gaya panchhee

us ghar mein phir nahin aana hai

sone vaale jaag ja

duniya musaaphir khaana hai


sut maata pita baandhav naaree

dhan dhaan yahee rah jaayega

ye chand roj kee yaaree hai

phir apana kaun begaana hai

sone vaale jaag ja

duniya musaaphir khaana hai


kahe gaan hari naam japo

phir aisa samay na aana

kaajal kanchan see kaaya ko

haath masalana hai

sone vaale jaag ja

|| duniya musaaphir khaana hai ||


*** Singer : Prakash Gandhi ***



 

Ads Area