Type Here to Get Search Results !

प्रेम पियाला जो पिए सिस दक्षिणा देय दोहे का अर्थ (Prem Piyala Jo Piye Dohe Ka Arth in Hindi) - Bhaktilok


प्रेम पियाला जो पिए सिस दक्षिणा देय दोहे का अर्थ (Prem Piyala Jo Piye Dohe Ka Arth in Hindi):- 


प्रेम पियाला जो पिए, सिस दक्षिणा देय ।

लोभी शीश न दे सके, नाम प्रेम का लेय ।


प्रेम पियाला जो पिए सिस दक्षिणा देय दोहे का अर्थ (Prem Piyala Jo Piye Sis Dakshina Deh Dohe Ka Arth in Hindi) - Bhaktilok


प्रेम पियाला जो पिए सिस दक्षिणा देय दोहे का अर्थ (Prem Piyala Jo Piye Sis Dakshina Deh Dohe Ka Arth in Hindi):- 

जिसको ईश्वर प्रेम और भक्ति का प्रेम पाना है उसे अपना शीशकाम, क्रोध, भय, इच्छा को त्यागना होगा। लालची इंसान अपना शीशकाम, क्रोध, भय, इच्छा तो त्याग नहीं सकता लेकिन प्रेम पाने की उम्मीद रखता है।




Ads Area