Type Here to Get Search Results !

मुखड़ा क्या देखे दर्पण में भजन लिरिक्स (Mukhda Kya Dekhe Darpan Me Lyrics in Hindi) - Kabir Bhajan - Bhaktilok

 

मुखड़ा क्या देखे दर्पण में भजन लिरिक्स (Mukhda Kya Dekhe Darpan Me Lyrics in Hindi) - 


मुखड़ा क्या देखे दर्पण में

तेरे दया धरम नहीं मन में

कागज की एक नाव बनाई

छोड़ी गंगा-जल में

धर्मी कर्मी पार उतर गये

पापी डूबे जल में

आम की डारी कोयल राजी

मछली राजी जल में

साधु रहे जंगल में राजी

गृहस्थ राजी धन में

ऐंठी धोती पाग लपेटी

तेल चुआ जुलफन में

गली-गली की सखी रिझाई

दाग लगाया तन में

पाथर की इक नाव बनाई

उतरा चाहे छिन में

कहत ‘कबीर’ सुनो भाई साधो

चढ़े वो कैसे रन में

मुखड़ा क्या देखे दर्पण में

तेरे दया धरम नहीं मन में


मुखड़ा क्या देखे दर्पण में भजन लिरिक्स (Mukhda Kya Dekhe Darpan Me Lyrics in English) - 


mukhada dekhen kya darpan mein

tera daya dharam man mein nahin

kaagaj kee ek naav banaee gaee

chhodo ganga-jal mein

dhaarmik aashram paar utar gaya

paapee doobe jal mein

aam kee daaree koyal raajee

machhalee kekiye jal mein

saadhu rahe jangal mein

grhasvaamee dhan mein

ainthee dhotee paag lapetee

tel chua julphan mein

galee-galee kee sakhee rijhaee

ankit tan mein

pathar kee ik naav banaee

utara kharachin mein

kahat kabeer suno bhaee saadho

chadhe vo kaise ran mein

mukhada dekhen kya darpan mein

tera daya dharam man mein nahin


*** Singer : Prakash Gandhi ***


 


Ads Area