Type Here to Get Search Results !

माया मुई न मन मुआ मरी मरी गया सरीर दोहे का अर्थ(Maya Mari Na Man Muaa Mari Mari Gaya Sharir Dohe Ka Arth in Hindi)

 

माया मुई न मन मुआ मरी मरी गया सरीर दोहे का अर्थ(Maya Mari Na Man Muaa Mari Mari Gaya Sharir Dohe Ka Arth in Hindi):-


माया मुई न मन मुआ, मरी मरी गया सरीर।

आसा त्रिसना न मुई, यों कही गए कबीर ।


माया मुई न मन मुआ मरी मरी गया सरीर दोहे का अर्थ(Maya Mari Na Man Muaa Mari Mari Gaya Sharir Dohe Ka Arth in Hindi)


माया मुई न मन मुआ मरी मरी गया सरीर दोहे का अर्थ(Maya Mari Na Man Muaa Mari Mari Gaya Sharir Dohe Ka Arth in Hindi):-

कबीर कहते हैं कि संसार में रहते हुए न माया मरती है न मन। शरीर न जाने कितनी बार मर चुका पर मनुष्य की आशा और तृष्णा कभी नहीं मरती, कबीर ऐसा कई बार कह चुके हैं।




Ads Area