Type Here to Get Search Results !

कबीर लहरि समंद की मोती बिखरे आई दोहे का अर्थ(Kabir Lahari Samand ki Moti Bikhare Aai Dohe Ka Arth in Hindi) - Bhaktilok


कबीर लहरि समंद की मोती बिखरे आई दोहे का अर्थ(Kabir Lahari Samand ki Moti Bikhare Aai Dohe Ka Arth in Hindi):- 


कबीर लहरि समंद की, मोती बिखरे आई।

बगुला भेद न जानई, हंसा चुनी-चुनी खाई।


Kabir Das Ke Dohe,Kabir Saheb,Kabir Das,


कबीर लहरि समंद की मोती बिखरे आई दोहे का अर्थ(Kabir Lahari Samand ki Moti Bikhare Aai Dohe Ka Arth in Hindi):-

कबीर कहते हैं कि समुद्र की लहर में मोती आकर बिखर गए। बगुला उनका भेद नहीं जानता, परन्तु हंस उन्हें चुन-चुन कर खा रहा है। इसका भावार्थ यह है कि किसी भी वस्तु का महत्व जानकार ही जानता है।




Ads Area