Type Here to Get Search Results !

भारत के चार धाम लिरिक्स (Char Dham In India Hindi Me) - Bhaktilok


भारत के चार धाम लिरिक्स (Char Dham In India Hindi Me) - 

भारत के चार धाम लिरिक्स (Char Dham In India Hindi Me) - Bhaktilok

[ भारत के चार धाम लिरिक्स ]


(toc) #title=(Table of Content)

द्वारका धाम (गुजरात):-

मठ: शारदा मठ | बीज मंत्र: तत्वमसि | वेद: सामवेद | संन्यासी का नाम : सरस्वती, तीर्थ, आश्रम | प्रथम मठाधीश: हस्तामलक (पृथ्वीधर) | दिशा: पश्चिम | सहायक शिव मंदिर: सोमनाथ ज्योतिर्लिंग | कुम्भ:उज्जैन


जगन्नाथ धाम (ओडिशा):-

मठ: गोवर्धन मठ | बीज मंत्र:प्रजनं ब्रह्मा | वेद: ऋग्वेद | संन्यासी नाम : अरण्य | प्रथम मठाधीश: पद्मपाद | दिशा: पूर्व | सहायक शिव मंदिर: लिंगराज मंदिर | कुम्भ:प्रयागराज


रामेश्वरम धाम (तमिलनाडु):-

गणित: वेदांत ज्ञानमठ | बीज मंत्र: अहं ब्रह्मास्मि | वेद: यजुर्वेद | संन्यासी का नाम : भारती, पुरी | प्रथम मठाधीश :आचार्य सुरेश्वरजी | दिशा: दक्षिण | सहायक शिव मंदिर: श्री रंगनाथस्वामी मंदिर | कुंभ: नासिक


बद्रीनाथ धाम (उत्तराखंड) :-

मठ: ज्योतिर्मठ | बीज मंत्र: अयमात्मा ब्रह्मा | वेद: अथर्ववेद | संन्यासी का नाम : गिरि, पर्वत, सागर | प्रथम मठाधीश :आचार्य तोटक | दिशा: उत्तर | सहायक शिव मंदिर: केदारनाथ ज्योतिर्लिंग | कुंभ: हरिद्वार


अपने विभिन्न अवतारों में, भगवान विष्णु रामेश्वरम में स्नान करते हैं, बद्रीनाथ में ध्यान करते हैं, पुरी में भोजन करते हैं और द्वारका में विश्राम करते हैं।

बद्रीनाथ धाम @बद्रीनाथ उत्तराखंड


बद्रीनाथ धाम :-

बद्रीनाथ धाम, जिसे बद्रीनारायण के नाम से भी जाना जाता है, उत्तराखंड के चमोली जिले में हिमालय की गोद में अलकनंदा नदी के तट पर स्थित है।


द्वारका धाम (गुजरात):-

द्वारका धाम को सात मोक्ष पुरियों में से एक माना जाता है। गुरु शंकराचार्य द्वारा परिभाषित चार धाम, चार वैष्णव तीर्थ हैं।


जगन्नाथ धाम (पुरी ओडिशा)

भारत के पूर्व में स्थित जगन्नाथ धाम को चार वैष्णव धामों में से एक माना जाता है। भारत के चार धाम आदि गुरु शंकराचार्य द्वारा परिभाषित चार वैष्णव तीर्थस्थल हैं...


भारत के चार धाम लिरिक्स (Char Dham In India English Me) -

 

Dwarka Dham (Gujrat):-

Math: Sharada Math | Seed Mantra: Tatwamasi | Ved: Samaveda | Sanyasi Name: Saraswati, Tirth, Ashram | First Mathadhish: Hastamalak (Prthvidhar) | Direction: West | Auxiliary Shiva Temple: Somnath Jyotirlinga | Kumbh: Ujjain


Jagannath Dham  (Odisha):-

Math: Govardhan Math | Seed Mantra: Prajnanam Brahma | Ved: Rigveda | Sanyasi Name: Arany | First Mathadhish: Padmapad | Direction: East | Auxiliary Shiva Temple: Lingaraj Temple | Kumbh: Prayagraj


Rameswaram Dham (Tamil Nadu):-

Math: Vedant Gyanmath | Seed Mantra: Aham Brahmasmi | Ved: Yajurveda | Sanyasi Name: Bharti, Puri | First Mathadhish: Acharya Sureshwarji | Direction: South | Auxiliary Shiva Temple: Sri Ranganathaswamy Temple | Kumbh: Nashik


Badrinath Dham (Uttarakhand):-

Math: Jyotirmath | Seed Mantra: Ayamatma Brahma | Ved: Atharvaveda | Sanyasi Name: Giri, Parvat, Sagar | First Mathadhish: Acharya Totak | Direction: North | Auxiliary Shiva Temple: Kedarnath Jyotirlinga | Kumbh: Haridwar


In His different incarnations, Lord Vishnu takes bath in Rameswaram, meditate in Badrinath, feast in Puri and rest in Dwarka.

Badrinath Dham @Badrinath Uttarakhand


Badrinath Dham :-

Badrinath Dham, also known as Badrinarayan, is situated on the banks of river Alaknanda in the lap of Himalayas in Chamoli district of Uttarakhand.


Dwarka Dham (Gujarat):-

Dwarka Dham is considered to be one of the Seven Moksha Puri. There are four dhams, four Vaishnava pilgrims defined by Guru Shankaracharya.


Jagannath Dham (Puri Odisha):-

Jagannath Dham located in the east of India is considered to be one of the four Vaishnava dham. The Four Dhams of India are the four Vaishnava shrines defined by Adi Guru Shankaracharya.||





Ads Area