Type Here to Get Search Results !

मां कूष्मांडा देवी की आरती लिरिक्स (Maa Kushmanda Devi Ki Aarti Lyrics in Hindi) - Khusmaanda Mata Aarti नवरात्रि चौथे दिन की आरती - Bhaktilok

 

मां कूष्मांडा देवी की आरती लिरिक्स (Maa Kushmanda Devi Ki Aarti Lyrics in Hindi) -


पिगंला ज्वालामुखी निराली।

शाकंबरी माँ भोली भाली॥


लाखों नाम निराले तेरे ।

भक्त कई मतवाले तेरे॥


भीमा पर्वत पर है डेरा।

स्वीकारो प्रणाम ये मेरा॥


सबकी सुनती हो जगदंबे।

सुख पहुँचती हो माँ अंबे॥


तेरे दर्शन का मैं प्यासा।

पूर्ण कर दो मेरी आशा॥


माँ के मन में ममता भारी।

क्यों ना सुनेगी अरज हमारी॥


तेरे दर पर किया है डेरा।

दूर करो माँ संकट मेरा॥


मेरे कारज पूरे कर दो।

मेरे तुम भंडारे भर दो॥


तेरा दास तुझे ही ध्याए।

भक्त तेरे दर शीश झुकाए॥


मां कूष्मांडा देवी की आरती लिरिक्स (Maa Kushmanda Devi Ki Aarti Lyrics in English) - 


piganla vidvat niraalee.

shaakambaree maan bholee bhaalee.


karod naam niraale tere.

bhakt matavaale tere.


bheema parvat par sthit hai.

sveekaaro pranaam ye mera.


brahmaand sunatee ho jagambe.

sukh soochee ho maan ambe.


tere darshan ka main pyaasa.

poorn kar do meree aasha.


maan ke man mein mamata bhaaree.

kyon na sunegee araj hamaaree.


tera dar par kaam hai.

door karo maan sankat mera.


mera karj poora kar do.

mere tum bhandaare bhar do.


tera daas too hee dhyae.

bhakt tere dar sheesh jhukae.


*** Singer: Anuradha Paudwal ***





Ads Area