Type Here to Get Search Results !

दुःख से मत घबराना पंछी ये जग दुःख का मेला है भजन लिरिक्स (Dukh Me Mat Ghabrana Panchi Ye Jag Dukh Ka Mela Hai Lyrics in Hindi) - Bhaktilok

 

दुःख से मत घबराना पंछी ये जग दुःख का मेला है भजन लिरिक्स (Dukh Me Mat Ghabrana Panchi Ye Jag Dukh Ka Mela Hai Lyrics in Hindi) - 


दुःख से मत घबराना पंछी

ये जग दुःख का मेला है

चाहे भीड़ बहुत अम्बर पर

उड़ना तुझे अकेला है ।।


नन्हे कोमल पंख ये तेरे

और गगन की ये दूरी

बैठ गया तो होगी कैसे

मन की अभिलाषा पूरी

उसका नाम अमर है जग में

जिसने संकट झेला है

चाहे भीड़ बहुत अम्बर पर

उड़ना तुझे अकेला है ।।


चतुर शिकारी ने रखा है

जाल बिछा के पग-पग पर

फस मत जाना भूल से पगले

पछतायेगा जीवन भर

लोभ में दाने के मत पड़ना

बड़े समझ का खेला है

चाहे भीड़ बहुत अम्बर पर

उड़ना तुझे अकेला है ।।


जब तक सूरज आसमान पर

चढ़ता चल तू चलता चल

घिर जाएगा अंधकार जब

बड़ा कठिन होगा पल-पल

किसे पता की उड़ जाने की

आ जाती कब बेला है

चाहे भीड़ बहुत अम्बर पर

उड़ना तुझे अकेला है ।।


दुःख से मत घबराना पंछी

ये जग दुःख का मेला है

चाहे भीड़ बहुत अम्बर पर

उड़ना तुझे अकेला है ।।


दुःख से मत घबराना पंछी ये जग दुःख का मेला है भजन लिरिक्स (Dukh Me Mat Ghabrana Panchi Ye Jag Dukh Ka Mela Hai Lyrics in English) - 


du:kh se ghabaraana ghabaraahat pan

ye jag duhkh ka mel hai

haalaanki bahut ambar par

udana akela hai..||


nanhe komal pankh ye teree

aur gagan kee ye dooree

baith gaya to kaise hoga

man kee abhilaasha sampoorn

unaka naam amar hai jag mein

jo sankat mein hai

haalaanki bahut ambar par

udana akela hai..||


chatur hantar ne rakha hai

jaal ke pag-pag par

pagale ko bhool gaya hoon

pachhataayega jeevan bhar

lobh mein daane ke mat padana

bada samajh khela hai

haalaanki bahut ambar par

udana akela hai..||


jab tak da san skaee par

ran ran ran

agyaat ho jaoge

bada kathin hoga pal-pal

kise pata chalega

aur jab bila jaata hai

haalaanki bahut ambar par

udana akela hai..||


du: kh se ghabaraana ghabaraahat pan

ye jag duhkh ka mel hai

haalaanki bahut ambar par

|| udana akela hai..||



Ads Area