Type Here to Get Search Results !

स्कंदमाता की आरती लिरिक्स (Skandamata Ki Aarti Lyrics in Hindi) - by Anuradha Paudwal नवरात्रि पांचवे दिन की आरती - Bhaktilok


स्कंदमाता की आरती लिरिक्स (Skandamata Ki Aarti Lyrics in Hindi) - 


जय तेरी हो स्कंद माता।
पांचवां नाम तुम्हारा आता॥

सबके मन की जानन हारी।
जग जननी सबकी महतारी॥

तेरी जोत जलाता रहू मैं।
हरदम तुझे ध्याता रहू मै॥

कई नामों से तुझे पुकारा।
मुझे एक है तेरा सहारा॥

कही पहाडो पर है डेरा।
कई शहरों में तेरा बसेरा॥

हर मंदिर में तेरे नजारे।
गुण गाए तेरे भक्त प्यारे॥

भक्ति अपनी मुझे दिला दो।
शक्ति मेरी बिगड़ी बना दो॥

इंद्र आदि देवता मिल सारे।
करे पुकार तुम्हारे द्वारे॥

दुष्ट दैत्य जब चढ़ कर आए।
तू ही खंडा हाथ उठाए॥

दासों को सदा बचाने आयी।
भक्त की आस पुजाने आयी॥


स्कंदमाता की आरती लिरिक्स (Skandamata Ki Aarti Lyrics in English) - 


jay ho teree skand maata.
paanchavaan naam ab aata hai.

sabake man kee jaanan haaree.
jag jananee baagaan mahataaree.

ter jot jalaata rahu main.
haradam tere dhyaata raahu mai.

kaee hotal se bulae gae.
mujhe ek hai tera sahaara.

kahi pahaado par hai sthaan.
kaee shaharon mein tera basera.

har mandir mein tere nazaare.
gun gaaye tere bhakt priye.

bhakti apanee mujhe dila do.
shakti meree maata banee do.

indr aadi devata mil saare.
kare kol phaaphe dvaare.

dushtadaity jab chadh kar aaya.
too hee khanda haath pakad.

daason ko sada salaamat aaee.
bhakt kee aas pujaane aaee.


 Singer: Anuradha Paudwal









Ads Area