Type Here to Get Search Results !

उठ जाग मुसाफिर भोर भई अब रैन कहाँ जो सोवत है (Uth Jaag Musafir Bhor Bhayi Ab Rain Kaha Jo Sovat Hai Lyrics in HIndi) - Bhaktilok

 

उठ जाग मुसाफिर भोर भई अब रैन कहाँ जो सोवत है (Uth Jaag Musafir Bhor Bhayi Ab Rain Kaha Jo Sovat Hai Lyrics in HIndi) - 

उठ जाग मुसाफिर भोर भई,

 अब रैन कहाँ जो सोवत है |

जो सोवत है सो खोवत है,

 जो जगत है सोई पावत है ||


टुक नींद से अखियाँ खोल जरा,

 और अपने प्रभु में ध्यान लगा |

यह प्रीत कारन की रीत नहीं,

 रब जागत है तू सोवत है ||


जो कल करना सो आज करले,

 जो आज करे सो अभी करले |

जब चिड़िया ने चुग खेत लिया,

 फिर पश्त्यते क्या होवत है ||


नादान भुगत अपनी करनी, 

ऐ पापी पाप मै चैन कहाँ |

जब पाप की गठड़ी सीस धरी, 

अब सीस पकड़ क्यूँ रोवत है ||


उठ जाग मुसाफिर भोर भई अब रैन कहाँ जो सोवत है (Uth Jaag Musafir Bhor Bhayi Ab Rain Kaha Jo Sovat Hai Lyrics in English) -


uthata jaag musaaphir bhor bhaee,

 ab ren kaha jo sovat hai |

jo sovat hai so khovat hai,

 jo jagat hai soee paavat hai ||


neend se aakhiyaan khol jara,

 aur apane prabhu mein dhyaan lagaaya |

ye preet karan kee reet nahin,

 rab jaagat hai too sovat hai ||


jo kal karana so aaj karale,

 jo aaj kare so abhee karale |

jab chaara ne chug khet liya,

 phir pashtyate kya hovat hai ||


naadaan bhoomika apanee karanee,

ai paapee paap main kahaan hoon |

jab paap kee ghatharee sees dharee,

ab sees pakad kyoon rovat hai ||


Ads Area