Type Here to Get Search Results !

कैसा आया है जमाना कलयुग घर घर राज करे लिरिक्स (Kaisa Aaya Hai Jamana Kalyug Ghar Ghar Raj Kare Lyrics in Hindi) - Nirgun Bhaj - Bhaktilok

 

कैसा आया है जमाना कलयुग घर घर राज करे  लिरिक्स (Kaisa Aaya Hai Jamana Kalyug Ghar Ghar Raj Kare Lyrics in Hindi) - 


कैसा आया है जमाना 

कलयुग घर-घर राज करे......


पानी आंखो का मरा, मरी शर्म और लाज,

कहे बहू और सास से घर में मेरा राज,

कैसा आया है जमाना.....


भाई भी करता नहीं अब भाई का विश्वास,

बहन पराई हो गई अब साली खासम खास,

कैसा आया है जमाना.....


मंदिर में पूजा करें और घर में करें क्लेश,

मात-पिता बोझ लगे और पत्थर लगे गणेश,

कैसा आया है जमाना.....


बचे कहां अब शेष हैं दया धर्म ईमान,

पत्थर के भगवान हैं और पत्थर दिल इंसान,

कैसा आया है जमाना.....


पत्थर के भगवान को लगते छप्पन भोग,

मर जाते फुटपाथ पर भूखे प्यासे लोग,

कैसा आया है जमाना.....


कैसा है पाखंड का अंधकार चारों ओर,

पापी करते जागरण मचा मचा कर शोर,

कैसा आया है जमाना.....


पहन मुखौटा धर्म का करते दिनभर पाप,

भंडारे करते फिरें और घर में भूखे बाप,

कैसा आया है जमाना.....


कैसा आया है जमाना कलयुग घर घर राज करे  लिरिक्स (Kaisa Aaya Hai Jamana Kalyug Ghar Ghar Raj Kare Lyrics in English) -


kaisa aaya hai jamaana

kalayug ghar-ghar raaj kare......


paanee aankho ka mera, meree sharm aur laaj,

kahe bahoo aur saas se ghar mein mera raaj,

kaisa aaya hai jamaana...


bhaee bhee nahin karata ab bhaee ka vishvaas,

bahan paraee ho gaee ab saalee khasam khas,

kaisa aaya hai jamaana...


mandir mein pooja karen aur ghar mein klesh karen,

maan-baap laage aur patthar laage ganesh,

kaisa aaya hai jamaana...


baichen ab shesh hain daya dharm eemaan,

patthar ke bhagavaan hain aur patthar dil insaan,

kaisa aaya hai jamaana...


patthar ke bhagavaan ko mile chhappan bhog,

mar jaate hain pharm se jude log,

kaisa aaya hai jamaana...


kaisa hai paakhand ka blaikaut araund or,

paapee jagat macha macha kar shor,

kaisa aaya hai jamaana...


paadariyon ka dharm

bhandaare phir karate hain aur ghar mein milate hain baap,

kaisa aaya hai jamaana...


Ads Area