Type Here to Get Search Results !

स्वागत गीत मन की वीणा से गुंजित लिरिक्स (Man Ki Vina Se Gujati Dhwani Manglam Lyrics n Hindi) - Bhaktilok

 स्वागत गीत मन की वीणा से गुंजित लिरिक्स (Man Ki Vina Se Gujati Dhwani Manglam Lyrics n Hindi):


मन की वीणा से गुंजित ध्वनि मंगलम 

स्वागतम् स्वागतम् स्वागतम्  स्वागतम्  ....


कैसा पावन सुहावन समय आज है 

आप आए अतिथियों में सरताज है

 देव की भांति पूजन करें आज हम ..

देव की भांति पूजन करे आज हम .... 

स्वागतम् स्वागतम् स्वागतम् स्वागतम् .... 


मन की बगिया से हमने हैं कालिया चुनी

श्रद्धा के फूलों से हमनें माला बुनी

करते हैं मिलके अर्पित सुमन आज हम

करते हैं मिलके अर्पित सुमन आज हम....

स्वागतम् स्वागतम् स्वागतम्  स्वागतम्  .... 



स्वागत गीत मन की वीणा से गुंजित लिरिक्स (Man Ki Vina Se Gujati Dhwani Manglam Lyrics n English) :


man kee veena se gunjit dhvani mangalam

svaagatam svaagatam svaagatam svaagatam ....


kaisa paavan suhaavan samay aaj hai

aap aaen anurodh mein sarataaj

 dev kee pratima ka poojan karen aaj ham..

dev kee dulhan ka poojan karen aaj ham....

svaagatam svaagatam svaagatam svaagatam ....


man kee bagiya se ham hain kaaliya naukar

shraddha ke phoolon se hameen maala bunee

hain milake naav suman karate aaj ham

hain milake naav suman karate aaj ham....

svaagatam svaagatam svaagatam svaagatam ....


Ads Area