Type Here to Get Search Results !

साई का दरबार सुहाना लगता है लिरिक्स (Sai Ka Darbar Suhana Lagata Hai lyrics in Hindi) - Sai Bhajan - Bhaktilok

 

साई का दरबार सुहाना लगता है लिरिक्स (Sai Ka Darbar Suhana Lagata Hai lyrics in Hindi) - 


शहनाईयों की सदा कह  रही है 

ख़ुशी की मुबारक घडी आ गयी है 

सजी है आज महफ़िल साई के रंग में 

सभी के लबो पर ख़ुशी छा गयी है 

आ....  आ....  आ.... आ.... 


साई का दरबार सुहाना लगता है 

दुखियो को  तेरा दर ठिकाना लगता है 

एक दिन जो साई को भजले 

शिर्डी उनका आना जाना लगता है 

साई का दरबार सुहाना लगता है 

दुखियो को  तेरा दर ठिकाना लगता है 

आ....  आ....  आ.... आ.... 


क्या कहू तुमसे मेरी सारी  खबर तुमको 

मै तेरा बंदा हु मुझपर एक नज़र कर दो 

जो भी गलती है तुम्हे हम तो  सुनायेंगे 

साईं मेरा दाता है आज ही मनाएंगे 

मेरा दिल साई नजराना लगता है 

दुखियो को  तेरा दर ठिकाना लगता है 


एक दिन जो साई को भजले 

शिर्डी उनका आना जाना लगता है 

साई का दरबार सुहाना लगता है 

दुखियो को  तेरा दर ठिकाना लगता है 

आ....  आ....  आ.... आ.... 


धडकन धडकन धडकन धडकन 

मेरी धडकन साई धडकन 

मेरी धडकन साई धडकन 


मेरी हर धडकन हर तडपन में तू  बसता 

श्रध्दा सबुरी साथ हो तो सीधा है रस्ता 

सब धर्मो को साई ने यही  सिखाया है 

सबका मालिक एक है सबको बताया है 


मेरा दिल साई नजराना लगता है 

दुखियो को  तेरा दर ठिकाना लगता है 

साई का दरबार सुहाना लगता है 

दुखियो को  तेरा दर ठिकाना लगता है ||


साई का दरबार सुहाना लगता है लिरिक्स (Sai Ka Darbar Suhana Lagata Hai lyrics in English) -


shahanaiyon kee sada kah rahee hai

khushee kee mubaarak ghadee aa gayee hai

saajee hai aaj mahafil saee ke rang mein

sabhee ke labo par khushee chha gaee hai

aa.... aa.... aa.... aa....


saee ka darabaar suhaana lagata hai

dukhiyo ko terar daar vakta lagata hai

ek din jo saee ko bhajale

shiradee unaka aana jaana lagata hai

saee ka darabaar suhaana lagata hai

dukhiyo ko terar daar vakta lagata hai

aa.... aa.... aa.... aa....


kya kahoon meree saaree khabar tumhen

main tera banda hoon par ek najar kar do

jo bhee galat hai tumase ham to sunaenge

saeen mera daata aaj hee manaega

mera dil saee nazaraana lagata hai

dukhiyo ko terar daar vakta lagata hai


ek din jo saee ko bhajale

shiradee unaka aana jaana lagata hai

saee ka darabaar suhaana lagata hai

dukhiyo ko terar daar vakta lagata hai

aa.... aa.... aa.... aa....


dhadakan dhadakan dhadakan dhadakan dhadakan

meree dhadakan saee dhadakan

meree dhadakan saee dhadakan


meree har dhadakan har tadapan mein too basata

shraddha saburee saath ho to seedha hai raasta

sab dharmo ko saee ne yahee sikhaaya hai

sabaka maalik ek hee hota hai


mera dil saee nazaraana lagata hai

dukhiyo ko terar daar vakta lagata hai

saee ka darabaar suhaana lagata hai

dukhiyo ko terar daar eksaaktar lagata hai ||



Ads Area