Type Here to Get Search Results !

रचा है श्रष्टि को जिस प्रभु ने भजन(Racha Hai Srishti Ko Jis Prabhu Ne Bhajan Lyrics in Hindi) - Bhaktilok


रचा है श्रष्टि को जिस प्रभु ने भजन(Racha Hai Srishti Ko Jis Prabhu Ne Lyrics in Hindi):- 

रचा है श्रष्टि को जिस प्रभु ने भजन(Racha Hai Srishti Ko Jis Prabhu Ne Lyrics in Hindi) - Bhaktilok

रचा है श्रष्टि को जिस प्रभु ने भजन(Racha Hai Srishti Ko Jis Prabhu Ne Lyrics in Hindi):- 


रचा है सृष्टि को जिस प्रभु ने

रचा है सृष्टि को जिस प्रभु ने

वही ये सृष्टि चला रहे है

जो पेड़ हमने लगाया पहले

उसी का फल हम अब पा रहे है


रचा है सृष्टि को जिस प्रभु ने

वही ये सृष्टि चला रहे है 

इसी धरा से शरीर पाए

इसी धरा में फिर सब समाए


है सत्य नियम यही धरा का

है सत्य नियम यही धरा का

एक आ रहे है एक जा रहे है


रचा है सृष्टि को जिस प्रभु ने

वही ये सृष्टि चला रहे है

जिन्होने भेजा जगत में जाना


तय कर दिया लौट के फिर से आना

जो भेजने वाले है यहाँ पे

जो भेजने वाले है यहाँ पे

वही तो वापस बुला रहे है


रचा है सृष्टि को जिस प्रभु ने

वही ये सृष्टि चला रहे है 

बैठे है जो धान की बालियो में

समाए मेहंदी की लालियो में


हर डाल हर पत्ते में समाकर

हर डाल हर पत्ते में समाकर

गुल रंग बिरंगे खिला रहे है


रचा है सृष्टि को जिस प्रभु ने

वही ये सृष्टि चला रहे है 

रचा है सृष्टि को जिस प्रभु ने

वही ये सृष्टि चला रहे है

जो पेड़ हमने लगाया पहले


उसी का फल हम अब पा रहे है

रचा है सृष्टि को जिस प्रभु ने

वही ये सृष्टि चला रहे है


रचा है श्रष्टि को जिस प्रभु ने भजन(Racha Hai Srishti Ko Jis Prabhu Ne Lyrics in English):- 


Racha hai shrshti ko jis prbhu ne.,

vahi ye shrshti chala rahe hai.,

jo ped hamane lagaaya pahale.,

usi ka phal ham ab pa rahe hai.,

Racha hai sarashti ko jis prbhu ne.,

vahi ye shrshti chala rahe hai


isi dhara se shareer paae.,

isi dhara me phir sab samaae.,

hai saty niyam yahi dhara ka.,

ek a rahe hai ek ja rahe hai.,

Racha hai sarashti ko jis prbhu ne.,

vahi ye shrshti chala rahe hai


jinhone bheja jagat me jaana.,

tay kar diya laut ke phir se aana.,

jo bhejane vaale hai yahaan pe.,

vahi to vaapas bula rahe hai.,

Racha hai sarashti ko jis prbhu ne.,

vahi ye shrshti chala rahe hai


baithe hai jo dhaan ki baaliyo me.,

samaae mehandi ki laaliyo me.,

har daal har patte me samaakar.,

gul rang birange khila rahe hai.,

Racha hai sarashti ko jis prbhu ne.,

vahi ye shrshti chala rahe hai


Racha hai shrshti ko jis prbhu ne.,

vahi ye shrshti chala rahe hai.,

jo ped hamane lagaaya pahale.,

usi ka phal ham ab pa rahe hai.,

Racha hai sarashti ko jis prbhu ne.,

vahi ye shrshti chala rahe hai





Ads Area