Type Here to Get Search Results !

पितर जी की आरती(Pitra Ji Ki Aarati in Hindi) - Bhaktilok

 

पितर जी की आरती(Pitra Ji Ki Aarati in Hindi):-


जय जय पितर महाराज, मैं शरण पड़यों हूँ थारी।

शरण पड़यो हूँ थारी बाबा, शरण पड़यो हूँ थारी।।

 

आप ही रक्षक आप ही दाता, आप ही खेवनहारे।

मैं मूरख हूँ कछु नहिं जाणूं, आप ही हो रखवारे।। जय।।


आप खड़े हैं हरदम हर घड़ी, करने मेरी रखवारी।

हम सब जन हैं शरण आपकी, है ये अरज गुजारी।। जय।।


देश और परदेश सब जगह, आप ही करो सहाई।

काम पड़े पर नाम आपको, लगे बहुत सुखदाई।। जय।।


भक्त सभी हैं शरण आपकी, अपने सहित परिवार।

रक्षा करो आप ही सबकी, रटूँ मैं बारम्बार।। जय।।


पितर जी की आरती(Pitra Ji Ki Aarati in Hindi) - Bhaktilok


पितर जी की आरती(Pitra Ji Ki Aarati in English):-


jay jay pitar mahaaraaj, main sharan padyon hoon thaaree.

padhayo hoon thaaree baaba, sharan sharan padhayo hoon thaaree..

 

aap hee rakshak aap hee daata, aap hee khevanahaare.

main moorakh hoon kuchh nahin jaanoon, tum hee ho rakhavaare.. jay..


aap hain haradam har ghadee, karane meree rakhavaalee.

ham sab jan hain aapake sharan, hai ye arz guzaaree.. jay..


desh aur pradesh sab jagah, aap hee karo sahaee.

kaam padhe par naam bataen, lage bahut sukhadaee.. jay..


bhakt sab sharan aapake, apane parivaar sahit.

raksha karo tum hee kampanee, ratoon main baarambaar.. jay..




Ads Area