Type Here to Get Search Results !

जिसने राग-द्वेष कामादिक भजन लिरिक्स (Jisne Raag Dvesh Kamadik Lyrics in Hindi) - New Bhakti Bhajan - Bhaktilok

 

जिसने राग-द्वेष कामादिक भजन लिरिक्स (Jisne Raag Dvesh Kamadik Lyrics in Hindi) - 


जिसने राग-द्वेष कामादिक

जीते सब जग जान लिया

सब जीवों को मोक्ष मार्ग का

निस्पृह हो उपदेश दिया

बुद्ध वीर जिन हरि

हर ब्रह्मा या उसको स्वाधीन कहो

भक्ति-भाव से प्रेरित हो

यह चित्त उसी में लीन रहो ॥


विषयों की आशा नहीं जिनके

साम्य भाव धन रखते हैं

निज-पर के हित साधन में

जो निशदिन तत्पर रहते हैं

स्वार्थ त्याग की कठिन तपस्या

बिना खेद जो करते हैं

ऐसे ज्ञानी साधु जगत के

दुःख-समूह को हरते हैं ॥


रहे सदा सत्संग उन्हीं का

ध्यान उन्हीं का नित्य रहे

उन ही जैसी चर्या में यह

चित्त सदा अनुरक्त रहे

नहीं सताऊँ किसी जीव को

झूठ कभी नहीं कहा करूँ

पर-धन-वनिता पर न लुभाऊँ

संतोषामृत पिया करूँ॥


अहंकार का भाव न रखूँ

नहीं किसी पर खेद करूँ

देख दूसरों की बढ़ती को

कभी न ईर्ष्या-भाव धरूँ

रहे भावना ऐसी मेरी

सरल-सत्य-व्यवहार करूँ

बने जहाँ तक इस जीवन में

औरों का उपकार करूँ॥


मैत्रीभाव जगत में

मेरा सब जीवों से नित्य रहे

दीन-दु:खी जीवों पर मेरे

उरसे करुणा स्रोत बहे

दुर्जन-क्रूर-कुमार्ग रतों पर

क्षोभ नहीं मुझको आवे

साम्यभाव रखूँ मैं उन पर

ऐसी परिणति हो जावे ॥


गुणीजनों को देख हृदय में

मेरे प्रेम उमड़ आवे

बने जहाँ तक उनकी सेवा

करके यह मन सुख पावे

होऊँ नहीं कृतघ्न कभी मैं

द्रोह न मेरे उर आवे

गुण-ग्रहण का भाव रहे नित

दृष्टि न दोषों पर जावे ॥


कोई बुरा कहो या अच्छा

लक्ष्मी आवे या जावे

लाखों वर्षों तक जीऊँ

या मृत्यु आज ही आ जावे

अथवा कोई कैसा ही

भय या लालच देने आवे।

तो भी न्याय मार्ग से मेरे

कभी न पद डिगने पावे ॥


होकर सुख में मग्न न फूले

दुःख में कभी न घबरावे

पर्वत नदी-श्मशान

भयानक-अटवी से नहिं भय खावे

रहे अडोल-अकंप निरंतर

यह मन दृढ़तर बन जावे

इष्टवियोग अनिष्टयोग में

सहनशीलता दिखलावे॥


सुखी रहे सब जीव जगत के

कोई कभी न घबरावे

बैर-पाप-अभिमान छोड़ जग

नित्य नए मंगल गावे

घर-घर चर्चा रहे धर्म की

दुष्कृत दुष्कर हो जावे

ज्ञान-चरित उन्नत कर अपना

मनुज-जन्म फल सब पावे ॥


ईति-भीति व्यापे नहीं जगमें

वृष्टि समय पर हुआ करे

धर्मनिष्ठ होकर राजा भी

न्याय प्रजा का किया करे

रोग-मरी दुर्भिक्ष न फैले

प्रजा शांति से जिया करे

परम अहिंसा धर्म जगत में

फैल सर्वहित किया करे ॥


फैले प्रेम परस्पर जग में

मोह दूर पर रहा करे

अप्रिय-कटुक-कठोर शब्द

नहिं कोई मुख से कहा करे

बनकर सब युगवीर हृदय से

देशोन्नति-रत रहा करें

वस्तु-स्वरूप विचार खुशी से

सब दु:ख संकट सहा करें ॥


जिसने राग-द्वेष कामादिक भजन लिरिक्स (Jisne Raag Dvesh Kamadik Lyrics in English) - 


jo raag-dvesh kaamaadik

jiyo sab jag jaan

sabhee aadivaasiyon ko moksh maarg ka

nisprh ho upadesh

buddh veer jin hari

har brahma ya svaadheen kaho

bhakti-bhaav se prerana ho

yah chitt usee mein leen raho .


vishayon kee aasha nahin jahaan

saamy bhaav dhan dhaaran karate hain

nij-par ke hit saadhan mein

jo nishadin tatpar rahate hain

svaarth tyaag kee kathin tapasya

bina khed jo karate hain

aise gyaanee saadhu jagat ke

duhkh-samooh ko harate hain.


rahe sada satsang saathiyon ka

dhyaan naveen ka nity rahe

un hee jaisee charya mein yah

chitt sada anurakt rahe

nahin sataoon kisee jeev ko

jhooth kabhee nahin kaha karoon

par-dhan-vanita par na shok

santoshaamrt piya karoon.


pyaar ka bhaav na rakhoon

nahin kisee par savaal karoon

dekhiye aadi kee sankhya

kabhee na chaahat-bhaav dharoon

rah rahee bhaavana aisee meree

saral-saty-vyavahaar karoon

is jeevan mein jahaan tak bane rahen

auron ka upakaar karoon.


maitreebhaav jagat mein

mera sab khilaune se nity rahe

deen-du:khee fraee mere

urse karuna srot bahe

durjan-kroor-kumaarg choohon par

chhodo nahin mujhako aave

saamyabhaav raakhoon main un par

aisee parinati ho jaave.


guneejanon ko dekho dil mein

mere prem arnst aave

jahaan tak unakee seva bane

karake yah man sukh paave

main nahin hoon

gaddaaree na mere ur aave

gun-gun ka bhaav rahe nit

drshti na doshon par jaave.


koee bura kaho ya achchha

lakshmee aave ya jaave

laakhon varshon tak jeeoon

ya maut aaj hee aa jaave

ya koee kaisa hee

dar ya laalach aave.

to bhee nyaay maarg se mere

kabhee na pad digane paave.


baaqee sukh mein magan na phoole

duhkh mein kabhee na ghabaraana

parvat nadee-shmashaan

bhayaanak-atavee se nahin bhay khaave

rahe adol-akamp jaaree

yah man drdhatar ban jaave

ishtaviyog anishtayog mein

sahanasheelata dikhalaave.


sukhee rahe sab jeev jagat ke

koee kabhee na ghabaraaya hua

bair-paap-abhimaan chhodo jag

nity naye mangal gaave

ghar-ghar charcha rahe dharm kee

dushkrt dushkar ho jaave

gyaan-charitr unnat kar apana

manuj-janm phal sab paave.


eti-bheeti vyaape nahin jagamen

vyavasaayik samay par hua kare

dharmanishtha raaja bhee

jastis pej kaise banaaye

rog-meree durbhiksh na fel

pej shaanti se jiya kare

param ahinsa dharm jagat mein

fel sarvahit kare .


antim prem ekata jag mein

moh door rahe

kadava-katuk-kathor shabd

nahin koee mujhase kahe

ubhare sab yugaveer hrday se

deshonnati-rat rahen

vastu-svaroop vichaar aanand se

sab duhkh sankat sahaaye.


*** Singer : Vandana Bhardwaj ***



Ads Area