Type Here to Get Search Results !

तुम अगर द्वार भोले के आते रहो लिरिक्स (Tum Agar Dwar Bhole Ke Aate Raho Lyrics in Hindi) - Sanjay Chauhan Shiv Bhajan - Bhaktilok

 

तुम अगर द्वार भोले के आते रहो लिरिक्स (Tum Agar Dwar Bhole Ke Aate Raho Lyrics in Hindi) - 

तुम अगर द्वार भोले के आते रहो

काम जो भी हैं बिगड़े सुधर जाएंगे

बाबा शिव को पुकारा जो मन से कभी

जो खजाने है खाली वो भर जाएंगे

तुम अगर द्वार भोलें के आते रहो

काम जो भी हैं बिगड़े सुधर जाएंगे।।


बाबा भोले की भक्ति है सबसे सरल

जो किसी देव देवी में पाई नहीं

कौन ऐसा अभागा है संसार है

जिसने शिवजी की महिमा को गाई नहीं

सोचने में समय तेरा जाता रहा

तो सुहाने ये पल भी गुजर जाएँगे

तुम अगर द्वार भोलें के आते रहो

काम जो भी हैं बिगड़े सुधर जाएंगे।।


सोना चांदी तो बाबा नहीं मांगते

भाव से गंगा जल ही चढ़ा दीजिये

फुल फल भी चढाने से मजबूर हो

हाथ चरणों के आगे बढ़ा दीजिये

बाबा ऐसे दयालु है भक्तो सुनो

जो भी संकट तुम्हारे है टल जाएँगे

तुम अगर द्वार भोलें के आते रहो

काम जो भी हैं बिगड़े सुधर जाएंगे।।


जिनके होंठों पे शिव शिव का उच्चार है

उनके जीवन में देखा चमत्कार है

उनके चरणों में जा अब तू देरी ना कर

वो ही दातार सच्चा मददगार है

सबकी बिगड़ी बनाते है भोले सदा

तेरी बिगड़ी को क्या वो मुकर जाएँगे

तुम अगर द्वार भोलें के आते रहो

काम जो भी हैं बिगड़े सुधर जाएंगे।।


तूने शाश्त्र पढ़े तूने वेद पढ़े

शाश्त्र पढके भी तूने ये सोचा नहीं

तूने शाश्त्र पढ़े तूने वेद पढ़े

शाश्त्र पढके भी तूने ये सोचा नहीं

भोला बाबा के दर पे तू आके तो देख

तेरे सारे ही संकट तो मिट जाएँगे

तुम अगर द्वार भोलें के आते रहो

काम जो भी हैं बिगड़े सुधर जाएंगे।।


भोलेनाथ के चरणों में चारों धाम है

आजा आजा यही भक्ति का धाम है

भोलेनाथ के चरणों में चारों धाम है

आजा आजा यही भक्ति का धाम है

डमरू वाले की पूजा की ही नहीं

फिर तीर्थो में क्यों कर हम जाएँगे

तुम अगर द्वार भोलें के आते रहो

काम जो भी हैं बिगड़े सुधर जाएंगे।।


तू भटकता है दर दर परेशान क्यों

तेरी मुश्किल का बाबा को अहसास है

मुझको काशी निवासी पे विश्वास है

वो रहता सदा भक्त के पास है

शिव का सुमिरण जो भक्तगण करते सदा

भक्त भोले के भव से भी तर जाएँगे

तुम अगर द्वार भोलें के आते रहो

काम जो भी हैं बिगड़े सुधर जाएंगे।।


तुम अगर द्वार भोले के आते रहो

काम जो भी हैं बिगड़े सुधर जाएंगे

बाबा शिव को पुकारा जो मन से कभी

जो खजाने है खाली वो भर जाएंगे

तुम अगर द्वार भोलें के आते रहो

काम जो भी हैं बिगड़े सुधर जाएंगे।।


तुम अगर द्वार भोले के आते रहो लिरिक्स (Tum Agar Dwar Bhole Ke Aate Raho Lyrics in English) - 


agar aap dvaar bhole ke poorv mein aate hain

kaam jo bhee kharaab ho gae hain achchhe ho jaenge

baaba shiv ko kaha jo man se kabhee

jo khaalee hai vo bhar jaenge

tum agar dvaar bholen ke poorv aate hain

kaam jo bhee hain kharaab ho gae hain..


baaba bhole kee bhakti hai sabase saral

jo kisee dev devee mein nahin paee

kaun aisa abhaaga hai sansaar hai

vah shivajee kee mahima ko nahin gaee

soch mein pad raha hoon

to suhaane ye pal bhee gujar jaunga

tum agar dvaar bholen ke poorv aate hain

kaam jo bhee hain kharaab ho gae hain..


sona chaandee to baaba nahin maangate

bhaav se ganga jal hee chadhen

poora phal bhee chadhaane se majaboor ho

haathon ke charanon ke aage badhe

baaba aise dayaaloo hai bhakto suno

jo bhee kraisis hai, vah aapake lie hai

tum agar dvaar bholen ke poorv aate hain

kaam jo bhee hain kharaab ho gae hain..


jinake baare mein soch rahe hain shiv shiv ka uchchaar hai

unake jeevan mein chamatkaar dekha hai

unake charanon mein ab too vilamb nahin kar sakata

vo hee daataar sachchee aapoorti hai

sabakee bigadee hai bhole sada

teree chhotee ko kya vo mukar jaega

tum agar dvaar bholen ke poorv aate hain

kaam jo bhee hain kharaab ho gae hain..


toone shaastr padhe toone ved padhe

shaastra padhane ke bhee toone ye nahin socha

toone shaastr padhe toone ved padhe

shaastra padhane ke bhee toone ye nahin socha

bhola baaba ke dar pe too aake to dekh

saare hee sankat ko mita do

tum agar dvaar bholen ke poorv aate hain

kaam jo bhee hain kharaab ho gae hain..


bholenaath ke charanon mein chaaron dhaam hain

aaja aaj yahee bhakti ka dhaam hai

bholenaath ke charanon mein chaaron dhaam hain

aaja aaj yahee bhakti ka dhaam hai

damaroovaale kee pooja hee nahin

phir ham teerth mein kyon ja sakate hain

tum agar dvaar bholen ke poorv aate hain

kaam jo bhee hain kharaab ho gae hain..


too nikal jaata hai dar dar pareshaan kyon

tera mushkil ka baaba ko adhikaar hai

mera kaashee nivaasee vishvaas hai

vo sada bhakt ke paas hai

shiv ka sumiran jo bhaktagan karate hain sada

bhakt bhole ke bhav se bhee jyaada kharch karen

tum agar dvaar bholen ke poorv aate hain

kaam jo bhee hain kharaab ho gae hain..


agar aap dvaar bhole ke poorv mein aate hain

kaam jo bhee kharaab ho gae hain achchhe ho jaenge

baaba shiv ko kaha jo man se kabhee

jo khaalee hai vo bhar jaenge

tum agar dvaar bholen ke poorv aate hain

kaam jo bhee hain kharaab ho gae hain..


*** Singer - Sanjay Chauhan ***




Ads Area