Type Here to Get Search Results !

राम को देख कर जनक नंदनी लिरिक्स (Ram Ko Dekh Kar Janak Nandani Lyrics in Hindi) - Ram Bhajan Prakash Gandhi - Bhaktilok

 

राम को देख कर जनक नंदनी लिरिक्स (Ram Ko Dekh Kar Janak Nandani Lyrics in Hindi) - 


राम को देख कर के जनक नंदनी

बाग में यु खड़ी की खड़ी रह गयी 

राम देखे सिया को सिया राम को

चारो अखियाँ लड़ी की लड़ी रह गयी

बाग में यु खड़ी की खड़ी रह गयी ||


बोली पहली सखी जानकी के लिए

क्या विधाता ने ये जोड़ी है रची

पर धनुष कैसे तोड़ेंगे सुन्दर कुवर

मन में शंका बनी की बनी रह गयी

राम देखे सिया को सिया राम को

चारो अखियाँ लड़ी की लड़ी रह गयी

बाग में यु खड़ी की खड़ी रह गयी ||


बोली दूसरी सखी ये सच है मगर

पर चमत्कार तो इतना नही जानकी

एक ही बाण में ताड़का जो गिरी

जो गिरी तो पड़ी की पड़ी रह गयी

राम देखे सिया को सिया राम को

चारो अखियाँ लड़ी की लड़ी रह गयी

बाग में यु खड़ी की खड़ी रह गयी ||


राम को देख कर जनक नंदनी लिरिक्स (Ram Ko Dekh Kar Janak Nandani Lyrics in English) - 


raam ko dekh kar ke janak nandanee

baag mein yoo khadiya dekhee ja sakatee hai 

raam dekhe siya ko siya raam ko

chaaro akhiyaan judane lageen

baag mein yoo khadiya dekhee ja sakatee hai ||


bolee pahale sakhee jaanakee ke lie

kis vidhaata ne ye joda hai rachee

par dhaneshvar kaise todenge sundar kuvar

man mein shanka banee kee banee rah gaee

raam dekhe siya ko siya raam ko

chaaro akhiyaan judane lageen

baag mein yoo khadiya dekhee ja sakatee hai ||


bolee doosaree sachchee ye sach hai lekin

par chamatkaar to itana nahin jaanakee

ek hee baan mein taadaka jo giree

jo giree to padee kee gaee

raam dekhe siya ko siya raam ko

chaaro akhiyaan judane lageen

baag mein yoo khadiya dekhee ja sakatee hai ||




Ads Area