Type Here to Get Search Results !

हम कथा सुनाते राम सकल गुणधाम की लिरिक्स (Hum Katha Sunate Ram Sakal Gun Dhaam Ki Lyrics In Hindi) - Kavita Krishnamurthy Hemlata and Ravindra Jain - Bhaktilok

 

हम कथा सुनाते राम सकल गुणधाम की लिरिक्स (Hum Katha Sunate Ram Sakal Gun Dhaam Ki Lyrics In Hindi) -


हम कथा सुनाते राम सकल गुणधाम की

ये रामायण है पुण्य कथा श्री राम की।।


श्लोक – ॐ श्री महागणाधिपतये नमः

ॐ श्री उमामहेश्वराभ्याय नमः।

वाल्मीकि गुरुदेव के पद पंकज सिर नाय

सुमिरे मात सरस्वती हम पर होऊ सहाय।

मात पिता की वंदना करते बारम्बार

गुरुजन राजा प्रजाजन नमन करो स्वीकार।।


हम कथा सुनाते राम सकल गुणधाम की

ये रामायण है पुण्य कथा श्री राम की।।


जम्बुद्विपे भरत खंडे आर्यावर्ते भारतवर्षे

एक नगरी है विख्यात अयोध्या नाम की

यही जन्म भूमि है परम पूज्य श्री राम की

हम कथा सुनाते राम सकल गुणधाम की

ये रामायण है पुण्य कथा श्री राम की

ये रामायण है पुण्य कथा श्री राम की।।


रघुकुल के राजा धर्मात्मा

चक्रवर्ती दशरथ पुण्यात्मा

संतति हेतु यज्ञ करवाया

धर्म यज्ञ का शुभ फल पाया।

नृप घर जन्मे चार कुमारा

रघुकुल दीप जगत आधारा

चारों भ्रातों के शुभ नामा

भरत शत्रुघ्न लक्ष्मण रामा।।


गुरु वशिष्ठ के गुरुकुल जाके

अल्प काल विद्या सब पाके

पूरण हुई शिक्षा

रघुवर पूरण काम की

हम कथा सुनाते राम सकल गुणधाम की

ये रामायण है पुण्य कथा श्री राम की

ये रामायण है पुण्य कथा श्री राम की।।


मृदु स्वर कोमल भावना

रोचक प्रस्तुति ढंग

एक एक कर वर्णन करें

लव कुश राम प्रसंग

विश्वामित्र महामुनि राई

तिनके संग चले दोउ भाई

कैसे राम ताड़का मारी

कैसे नाथ अहिल्या तारी।


मुनिवर विश्वामित्र तब

संग ले लक्ष्मण राम

सिया स्वयंवर देखने

पहुंचे मिथिला धाम।।


जनकपुर उत्सव है भारी

जनकपुर उत्सव है भारी

अपने वर का चयन करेगी सीता सुकुमारी

जनकपुर उत्सव है भारी।।


जनक राज का कठिन प्रण

सुनो सुनो सब कोई

जो तोड़े शिव धनुष को

सो सीता पति होई।


को तोरी शिव धनुष कठोर

सबकी दृष्टि राम की ओर

राम विनय गुण के अवतार

गुरुवर की आज्ञा सिरधार

सहज भाव से शिव धनु तोड़ा

जनकसुता संग नाता जोड़ा।


रघुवर जैसा और ना कोई

सीता की समता नही होई

दोउ करें पराजित

कांति कोटि रति काम की

हम कथा सुनाते राम सकल गुणधाम की

ये रामायण है पुण्य कथा श्री राम की

ये रामायण है पुण्य कथा श्री राम की।।


सब पर शब्द मोहिनी डारी

मन्त्र मुग्ध भये सब नर नारी

यूँ दिन रैन जात हैं बीते

लव कुश नें सबके मन जीते।


वन गमन सीता हरण हनुमत मिलन

लंका दहन रावण मरण अयोध्या पुनरागमन।


सविस्तार सब कथा सुनाई

राजा राम भये रघुराई

राम राज आयो सुखदाई

सुख समृद्धि श्री घर घर आई।


काल चक्र नें घटना क्रम में

ऐसा चक्र चलाया

राम सिया के जीवन में फिर

घोर अँधेरा छाया।


अवध में ऐसा ऐसा इक दिन आया

निष्कलंक सीता पे प्रजा ने

मिथ्या दोष लगाया

अवध में ऐसा ऐसा इक दिन आया।


चल दी सिया जब तोड़ कर

सब नेह नाते मोह के

पाषाण हृदयों में

ना अंगारे जगे विद्रोह के।


ममतामयी माँओं के आँचल भी

सिमट कर रह गए

गुरुदेव ज्ञान और नीति के

सागर भी घट कर रह गए।


ना रघुकुल ना रघुकुलनायक

कोई न सिय का हुआ सहायक।

मानवता को खो बैठे जब

सभ्य नगर के वासी

तब सीता को हुआ सहायक

वन का इक सन्यासी।


उन ऋषि परम उदार का

वाल्मीकि शुभ नाम

सीता को आश्रय दिया

ले आए निज धाम।


रघुकुल में कुलदीप जलाए

राम के दो सुत सिय नें जाए।


( श्रोतागण ! जो एक राजा की पुत्री है

एक राजा की पुत्रवधू है

और एक चक्रवर्ती राजा की पत्नी है

वही महारानी सीता वनवास के दुखों में

अपने दिन कैसे काटती है

अपने कुल के गौरव और स्वाभिमान की रक्षा करते हुए

किसी से सहायता मांगे बिना

कैसे अपना काम वो स्वयं करती है

स्वयं वन से लकड़ी काटती है

स्वयं अपना धान कूटती है

स्वयं अपनी चक्की पीसती है

और अपनी संतान को स्वावलंबी बनने की शिक्षा

कैसे देती है अब उसकी एक करुण झांकी देखिये ) –


जनक दुलारी कुलवधू दशरथजी की

राजरानी होके दिन वन में बिताती है

रहते थे घेरे जिसे दास दासी आठों याम

दासी बनी अपनी उदासी को छुपाती है

धरम प्रवीना सती परम कुलीना

सब विधि दोष हीना जीना दुःख में सिखाती है

जगमाता हरिप्रिया लक्ष्मी स्वरूपा सिया

कूटती है धान भोज स्वयं बनाती है

कठिन कुल्हाडी लेके लकडियाँ काटती है

करम लिखे को पर काट नही पाती है

फूल भी उठाना भारी जिस सुकुमारी को था

दुःख भरे जीवन का बोझ वो उठाती है

अर्धांगिनी रघुवीर की वो धर धीर

भरती है नीर नीर नैन में न लाती है

जिसकी प्रजा के अपवादों के कुचक्र में वो

पीसती है चाकी स्वाभिमान को बचाती है

पालती है बच्चों को वो कर्म योगिनी की भाँती

स्वाभिमानी स्वावलंबी सबल बनाती है

ऐसी सीता माता की परीक्षा लेते दुःख देते

निठुर नियति को दया भी नही आती है।।


उस दुखिया के राज दुलारे

हम ही सुत श्री राम तिहारे।


सीता माँ की आँख के तारे

लव कुश हैं पितु नाम हमारे

हे पितु भाग्य हमारे जागे

राम कथा कही राम के आगे।।


पुनि पुनि कितनी हो कही सुनाई

हिय की प्यास बुझत न बुझाई

सीता राम चरित अतिपावन

मधुर सरस अरु अति मनभावन।।


।।ॐ।। जय सियाराम ।।ॐ।।


हम कथा सुनाते राम सकल गुणधाम की लिरिक्स (Hum Katha Sunate Ram Sakal Gun Dhaam Ki Lyrics In English)


hum katha sunate ram sakal gun dhaam ki

ye ramayan hai puny katha shree ram kee.


jambudvipe bharat khande aaryaavarte bhaaratavarshe

ek nagaree hai vikhyaat ayodhya naam kee

yahee janm bhoomi hai param poojy shree raam kee

hum katha sunate ram sakal gun dhaam ki

ye ramayan hai puny katha shree ram kee.


raghukul ke raaja dharmaatma

chakravartee dasharath punyaatma

santati hetu yagy karavaaya

dharm yagy ka shubh phal paaya.

nrp ghar janme chaar kumaara

raghukul deep jagat aadhaara

chaaron bhraaton ke shubh naama

bharat shatrughn lakshman raama.

 

guru vashishth ke gurukul jaake

alp kaal vidya sab paake

pooran huee shiksha

raghuvar pooran kaam kee

hum katha sunate ram sakal gun dhaam ki

ye ramayan hai puny katha shree ram kee.


mrdu svar komal bhaavana

rochak prastuti dhang

ek ek kar varnan karen

lav kush raam prasang

vishvaamitr mahaamuni raee

tinake sang chale dou bhaee

kaise raam taadaka maaree

kaise naath ahilya taaree.


munivar vishvaamitr tab

sang le lakshman raam

siya svayanvar dekhane

pahunche mithila dhaam.


janakapur utsav hai bhaaree

apane var ka chayan karegee seeta sukumaaree

janakapur utsav hai bhaaree.


janak raaj ka kathin pran

suno suno sab koee

jo tode shiv dhanush ko

so seeta pati hoee.


ko toree shiv dhanush kathor

sabakee drshti raam kee or

raam vinay gun ke avataar

guruvar kee aagya siradhaar

sahaj bhaav se shiv dhanu toda

janakasuta sang naata joda.

 

raghuvar jaisa aur na koee

seeta kee samata nahee hoee

dou karen paraajit

kaanti koti rati kaam kee

hum katha sunate ram sakal gun dhaam ki

ye ramayan hai puny katha shree ram kee.


sab par shabd mohinee daaree

mantr mugdh bhaye sab nar naaree

yoon din rain jaat hain beete

lav kush nen sabake man jeete.


van gaman seeta haran hanumat milan

lanka dahan raavan maran ayodhya punaraagaman.


savistaar sab katha sunaee

raaja raam bhaye raghuraee

raam raaj aayo sukhadaee

sukh samrddhi shree ghar ghar aaee.


kaal chakr nen ghatana kram mein

aisa chakr chalaaya

raam siya ke jeevan mein phir

ghor andhera chhaaya.


avadh mein aisa aisa ik din aaya

nishkalank seeta pe praja ne

mithya dosh lagaaya

avadh mein aisa aisa ik din aaya.


chal dee siya jab tod kar

sab neh naate moh ke

paashaan hrdayon mein

na angaare jage vidroh ke.


mamataamayee maanon ke aanchal bhee

simat kar rah gae

gurudev gyaan aur neeti ke

saagar bhee ghat kar rah gae.


na raghukul na raghukulanaayak

koee na siy ka hua sahaayak.

maanavata ko kho baithe jab

sabhy nagar ke vaasee

tab seeta ko hua sahaayak

van ka ik sanyaasee.


un rshi param udaar ka

vaalmeeki shubh naam

seeta ko aashray diya

le aae nij dhaam.


raghukul mein kuladeep jalae

raam ke do sut siy nen jae.


janak dulaaree kulavadhoo dasharathajee kee

raajaraanee hoke din van mein bitaatee hai

rahate the ghere jise daas daasee aathon yaam

daasee banee apanee udaasee ko chhupaatee hai

dharam praveena satee param kuleena

sab vidhi dosh heena jeena duhkh mein sikhaatee hai.


jagamaata haripriya lakshmee svaroopa siya

kootatee hai dhaan bhoj svayan banaatee hai

kathin kulhaadee leke lakadiyaan kaatatee hai

karam likhe ko par kaat nahee paatee hai

phool bhee uthaana bhaaree jis sukumaaree ko tha

duhkh bhare jeevan ka bojh vo uthaatee hai

ardhaanginee raghuveer kee vo dhar dheer

bharatee hai neer neer nain mein na laatee hai.


jisakee praja ke apavaadon ke kuchakr mein vo

peesatee hai chaakee svaabhimaan ko bachaatee hai

paalatee hai bachchon ko vo karm yoginee kee bhaantee

svaabhimaanee svaavalambee sabal banaatee hai

aisee seeta maata kee pareeksha lete duhkh dete

nithur niyati ko daya bhee nahee aatee hai.


us dukhiya ke raaj dulaare

ham hee sut shree raam tihaare.


seeta maan kee aankh ke taare

lav kush hain pitu naam hamaare

he pitu bhaagy hamaare jaage

raam katha kahee raam ke aage.


puni puni kitanee ho kahee sunaee

hiy kee pyaas bujhat na bujhaee

seeta raam charit atipaavan

madhur saras aru ati manabhaavan.


hum katha sunate ram sakal gun dhaam ki

ye ramayan hai puny katha shree ram kee.




Ads Area