Type Here to Get Search Results !

एसो चटक मटक सो ठाकुर तीनो लोकन हूं मै नाए (Aiso Chatak Matak So Thakur Lyrics in Hindi) - Upasana Mehta Radha Krishna Bhajan - Bhaktilok



एसो चटक मटक सो ठाकुर तीनो लोकन हूं मै नाए (Aiso Chatak Matak So Thakur Lyrics in Hindi) - 


ऐसो चटक मटक सो ठाकुर, 
तीनो लोकोनहु में नाहे ||

तीन ठौर ते टेढ़ो दिखे
नट किसी चलगत यह सीखे
टेढ़े नैन चलावे तीखे
सब देवन को देव
तोउ ये ब्रज में घेरे गाये ||

ब्रह्मा मोह कियो पछतायो
दर्शन को शिव ब्रज में आयो
मान इन्द्र को दूर भगाओ
ऐसो वैभव वारो, तोउ 
ये ब्रज में गारी  खाए ||

बड़े बड़े असुरन को मारयो
नाग कालिया पकड़ पछड़ेओ
सात दिना तक गिरिवर धारयो
ऐसो बलि तौऊ खेलत में 
ग्वालन पे पिट जाए ||

रूप छबीलो है ब्रज सुन्दर
बिना बुलाए डोले घर घर
प्रेमी ब्रज गोपिन को चाकर
ऐसो प्रेम बडेओ माखन 
की चोरी करवे जाए |


Ads Area